आज सोने रो सूरज उगियो नखत कंवर घर आय लिरिक्स

आज सोने रो सूरज उगियो,

दोहा – बाबो निरंजन आवीया,
अलख जोगीसर आप,
सोलंकी या ने वचन दियों,
तों जोगी निरंजन आय।



आज सोने रो सूरज उगियो,

ऐ सैया म्हारी,
नखत कंवर घर आय,
आवे म्हारी सैया,
राज कंवर घर आय।।



गढ़ रे चारण वाले मार्गा ऐ,

सैया म्हारी मार्गा ऐ,
सैया म्हारी,
झीणी झीणी उड़ें रे गुलाल,
नाथ निरंजन आवे संग में ऐ,
सैया म्हारी संग में ऐ,
सैया म्हारी,
संग भभुता सिद्ध आय,
आज सौने रो सुरज उगियो ऐ।।



कुण जी लेवे सिंद्ध रा वारणा ऐ,

सैया म्हारी,
कुण जी लेवे रे बधाय,
कुण जी लेवे सिंद्ध रा वारणा ऐ,
सैया म्हारी,
कुण जी लेवे रे बधाय,
बिरो सा लेवें सिंद्ध रा वारणा ऐ,
सैया म्हारी,
बहनड़ लेवें रे बधाय है
आज सौने रो सुरज उगियो ऐ।।



दोनों सिंद्धा के साथ में ऐ,

सहीया माहरी साथ में ऐ,
सैया म्हारी,
उबा निरंजन बाबो आप आवे,
म्हारी सहीया बाबो निरंजन आय,
चोक पुरायो गंज मोतिया ऐ,
सैया म्हारी मोतिया ऐ,
सखीया मंगल गाय है,
आज सौने रो सुरज उगियो ऐ।।



दास भीखे री विणती ऐ,

सहीया माहरी विणती ऐ,
राखो छतर वाली साव है,
सहीया म्हारी,
राखो छतर वाली साव है,
आज सौने रो सुरज उगियो ऐ।।



आज सौने रो सूरज उगियो,

ऐ सैया म्हारी,
नखत कंवर घर आय,
आवे म्हारी सैया,
राज कंवर घर आय।।

गायक – सम्पत जी उपाध्याय।
गाव मुझासर मो. 9829172655
Upload By – Bhajnesh mev
7737703142


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

बिलाड़ा में जावणा ने आई ने मनावना लिरिक्स

बिलाड़ा में जावणा ने आई ने मनावना लिरिक्स

बिलाड़ा में जावणा ने, आई ने मनावना, केसर तिलक लगावना जी, अरे जनम जनम रा पाप कियोडा, बाण गंगा रे माय नावना जी।। रोहित दासजी रो रनीयो बेरो, लागे गनो…

सबसे पहले थने मनावा भगतो के रखवाले भजन लिरिक्स

सबसे पहले थने मनावा भगतो के रखवाले भजन लिरिक्स

सबसे पहले थने मनावा, भगतो के रखवाले, आज सभा में लाज बचा ले, मोहन मुरली वाले।। नामा सुदामा सेन भगत ने, हरदम फेरी माला, मोरध्वज ने चीर दिया था, रत्नकवर…

काई कारण आयो जिवडा कई करवा लागो रे लिरिक्स

काई कारण आयो जिवडा कई करवा लागो रे लिरिक्स

काई कारण आयो जिवडा, कई करवा लागो रे, मानखो मिल गयो हो, तने मूंगा मोल रो।। लख चौरासी में भटकत भटकत, अब के अवसर आयो ये, करले उजियारो गुरु नाम…

ओ मीरा भाभी जी ऊचो जी थारो बैसनो राजस्थानी भजन

ओ मीरा भाभी जी ऊचो जी थारो बैसनो राजस्थानी भजन

ओ मीरा भाभी जी, ऊचो जी थारो बैसनो, ओ मीरा भाभीजी ऊंची केवि जे, थोरी जात मीरा भाभीजी, किन कारन वेराघ लियो, ओं मीरा भाभी जी, ऊचो जी थारो बैसनो।।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “आज सोने रो सूरज उगियो नखत कंवर घर आय लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे