रोम रोम में रम रया हाँ रे प्रेम गुरू

रोम रोम में रम रया,
हाँ रे प्रेम गुरू,
ज्यु मकड़ी मे जाल रे ए जी,
रोम रोम में रम रया,
हाँ रे प्रेम गुरू,
ज्यु मकड़ी मे जाल रे ए जी,
खोजी वेतो करो खोजना,
खोजी वेतो करो खोजना,
मूर्ख हर फर जाय,
भजन मे रोशन हो न लार रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।



कुण गुरू तम्बू तानीया हाँ रे,

प्रेम गुरू कुण गुरू मेली तान रे ए जी,
कुण गुरू तम्बू तानीया हाँ रे,
प्रेम गुरू मेली तान रे ए जी,
सत्त वाली खुटीया ठोक दी जी,
सत्त वाली खुटीया ठोक दी,
सोना रा कलश थपाय,
रेशमी डोर मिलावो लाय रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।



घणी नदीयाँ में रेत है हाँ रे,

प्रेम गुरू घणी नदीयाँ में ध्रोप रे ए जी,
घणी नदीयाँ में रेत है हाँ रे,
प्रेम गुरू घणी नदीयाँ में ध्रोप रे ए जी,
घास पूस सब जल गया जी,
घास पूस सब जल गया जी,
ध्रोप रही कुलमाय,
सावन कब नेडो आवे लार रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।



ओ मन लोभी लालची हाँ रे,

प्रेम गुरू ओ मन म्हारो चोर रे ए जी,
ओ मन लोभी लालची हाँ रे,
प्रेम गुरू ओ मन म्हारो चोर रे ए जी,
ओ मन म्हारो बादशाह जी,
ओ मन म्हारो बादशाह जी,
ओतो कपट री खान,
शब्द जाणे कोनी बात रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।



ए ऐडी बाता कह गया हाँ रे,

प्रेम गुरू कह गया संत कबीर सा जी,
ए ऐडी ऐडी बाता कह गया हाँ रे,
प्रेम गुरू कह गया संत कबीर सा जी,
नही गाडी नही बेलीया जी,
नही गाडी नही बेलीया जी,
स्वर्गा गया शरीर,
कमल रा फूल बनाया आप रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।



रोम रोम में रम रया,

हाँ रे प्रेम गुरू,
ज्यु मकड़ी मे जाल रे ए जी,
रोम रोम में रम रया,
हाँ रे प्रेम गुरू,
ज्यु मकड़ी मे जाल रे ए जी,
खोजी वेतो करो खोजना,
खोजी वेतो करो खोजना,
मूर्ख हर फर जाय,
भजन मे रोशन हो न लार रे ए जी,
म्हारे रावलीया सु मन मायला हीरा,
म्हारा घट मायला ज्ञान जंजीरा,
सतगुरु समझावे बात रे ए जी।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सांचो कहिजे जाम्भोजी रो नाम मुक्ति रो अवसर आवियो

सांचो कहिजे जाम्भोजी रो नाम मुक्ति रो अवसर आवियो

सांचो कहिजे जाम्भोजी रो नाम, दोहा – पहलो नाम परमेश्वर को, ओ जग मंडियो जोय, नर मूर्ख समझे नहीं, म्हारो हरी करे सो होय। भागत दौड़त दिन गमायो, नर सोवत…

आवे आवे माताजी रमता आवे भजन लिरिक्स

आवे आवे माताजी रमता आवे भजन लिरिक्स

आवे आवे माताजी रमता आवे, आवे आवे आवे चामुण्डा रमता आवे, चामुण्डा रमता आवे बायोसा रमता आवे, चामुण्डा रमता आवे बायोसा रमता आवे, आवे आवे आवे बायोसा रमता आवे।। अरे…

संतो में एक संत हुए है काशीपुर महाराज भजन लिरिक्स

संतो में एक संत हुए है काशीपुर महाराज भजन लिरिक्स

संतो में एक संत हुए है, काशीपुर महाराज, जिनकी गूलर बडी है धाम, जिनकी गूलर बडी है धाम।। तर्ज – देख तेरे संसार की हालत। मींगसर सुधी दशमी का जाया,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे