रोम रोम में बसा हुआ है एक उसी का नाम भजन लिरिक्स

रोम रोम में बसा हुआ है,
एक उसी का नाम,
तू जपले राम राम राम,
तू भजले राम राम राम,
रोम रोम में बसा हुआ हैं।।



लोभ और अभिमान छोड़िए,

छोड़ जगत की माया,
मन की आँखे खोल देख,
कण कण में वही समाया,
जहाँ झुकाए सर तू अपना,
वही पे उनका धाम,
तू जपले राम राम राम,
तू भजले राम राम राम,
रोम रोम में बसा हुआ हैं।।



ये मत सोच जहाँ मंदिर है,

वही पे दीप जलेंगे,
जहाँ पुकारेगा तू उनको,
वही पे राम मिलेंगे,
दर दर भटक रहा क्यों प्राणी,
उन्ही का दामन थाम,
तू जपले राम राम राम,
तू भजले राम राम राम,
रोम रोम में बसा हुआ हैं।।



ये संसार के नर और नारी,

देवी देवता सारे,
नहीं चला है कोई यहाँ पे,
उनके बिना इशारे,
वो चाहे सूरज निकले,
वो चाहे तो ढलती शाम,
Bhajan Diary Lyrics,
तू जपले राम राम राम,
तू भजले राम राम राम,
रोम रोम में बसा हुआ हैं।।



रोम रोम में बसा हुआ है,

एक उसी का नाम,
तू जपले राम राम राम,
तू भजले राम राम राम,
रोम रोम में बसा हुआ हैं।।

Singer – Pt. Pawan Tiwari


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

बिना रघुनाथ को देखे नहीं दिल को करारी है लिरिक्स

बिना रघुनाथ को देखे नहीं दिल को करारी है लिरिक्स

बिना रघुनाथ को देखे, नहीं दिल को करारी है, हमारी मात की करनी, सकल दुनिया से न्यारी है, बिना सियाराम को देखे, नहीं दिल को करारी है।। (भजन प्रसंग –…

जाऊं कहाँ तजि चरण तुम्हारे भजन लिरिक्स

जाऊं कहाँ तजि चरण तुम्हारे भजन लिरिक्स

जाऊं कहाँ तजि चरण तुम्हारे, चरण तुम्हारे, चरण तुम्हारे, चरण तुम्हारे, जाऊँ कहाँ तजि चरण तुम्हारे।। काको नाम पतित पावन जग, केहि अति दीन पियारे, कौन देव बराइ बिरद हित,…

केवट राम का भक्त है दोनों चरणों को धोना पड़ेगा लिरिक्स

केवट राम का भक्त है दोनों चरणों को धोना पड़ेगा लिरिक्स

केवट राम का भक्त है, दोनों चरणों को धोना पड़ेगा, जल सरयू का गहरा भी है, पार उसको लगाना पड़ेगा, केवट राम का भक्त हैं, दोनों चरणों को धोना पड़ेगा।bd।…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे