रहते हो किस गली में क्या नाम है तुम्हारा भजन लिरिक्स

रहते हो किस गली में क्या नाम है तुम्हारा भजन लिरिक्स

रहते हो किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा,
बंसी बजाने वाले,
है क्या तेरा ठिकाना,
रहते हों किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा।।



गोकुल में तुझको ढूंढा,

मथुरा में तुझको ढूंढा,
गोकुल में तुझको ढूंढा,
मथुरा में तुझको ढूंढा,
गईयाँ चराने वाले,
ये दिल तेरा दीवाना,
रहते हों किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा।।



सुनते है नाम तेरा,

बचपन का नाम कान्हा,
सुनते है नाम तेरा,
बचपन का नाम कान्हा,
आवाज मेरी सुनके,
तुझको पड़ेगा आना,
रहते हों किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा।।



मिश्री मिला के कान्हा,

माखन तुझे खिलाऊं,
मिश्री मिला के कान्हा,
माखन तुझे खिलाऊं,
‘परदेसी’ कह रहा है,
दर्शन मुझे दिलाना,
रहते हों किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा।।



रहते हो किस गली में,

क्या नाम है तुम्हारा,
बंसी बजाने वाले,
है क्या तेरा ठिकाना,
रहते हों किस गली में,
क्या नाम है तुम्हारा।।

स्वर – दिलीप गवैया जी।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें