कारी देह पे खेलन आयो री मेरो बारो सो कन्हैया भजन लिरिक्स

कारी देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



काहे की पट गेंद बनाई,

काहे का डंडा लायो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



रेशम की पट गेंद बनाई,

चन्दन को डंडा लायो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



मारी टोल गेंद गई गंग में,

गेंद के संग ही धायो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



कान्हा जी ने देह में जाकर,

नाग को जाय जगायो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



नाग नाथ रेती में डारो ,

फन पे बेन बजायो री,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।



कारी देह पे खेलन आयो री,

मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो बारो सो कन्हैया,
मेरो छोटो सो कन्हैया,
काली देह पे खेलन आयो री,
मेरो बारो सो कन्हैया।।

Singer : Vandana Bhardwaj


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें