आखरी समय में हम करीब हो न हो भजन लिरिक्स

आखरी समय में हम करीब हो न हो भजन लिरिक्स

आखरी समय में हम करीब हो न हो,
मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।



जब तक तन में ये सांस रहेगी,

थोड़ी सी ये मिटटी मेरे पास रहेगी,
क्या पता ये धाम नज़दीक हो न हो,
मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।



तेरे धाम की ये मिटटी बड़ी ही महान,

इसके तो कण कण में है मेरा श्याम,
इससे अच्छा मेरा ये नसीब हो न हो,
मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।



लाखों लाखों भक्तों के पाँव पड़े हैं,

बरसों से इसमें मेरे श्याम खड़े है,
अगले जनम में ये गरीब हो ना हो,
मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।



‘बनवारी’ मेरा ये नसीब खुल जाए,

तेरी मिटटी में ये मेरी मिटटी मिल जाए,
नाम मेरा भक्तों में शरीक हो ना हो,
मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।



आखरी समय में हम करीब हो न हो,

मिट्टी खाटू धाम की नसीब हो न हो।।

Singer – Mukesh Goel


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें