प्रथम पेज राजस्थानी भजन मिन्दर रो आडो थे तो खोलदो पुजारी भेरुजी भजन लिरिक्स

मिन्दर रो आडो थे तो खोलदो पुजारी भेरुजी भजन लिरिक्स

मिन्दर रो आडो थे तो खोलदो पुजारी,
दर्शन करवा रो म्हारो नेम जे ए हा,
फुलडा चढावु चरना मायने पुजारी,
अरे सेवा करनो म्हारो नेम जे ए हा।।



अरे सोनाला काकड़ मे बनीयो देवरो भेरूजी,

अरे निवन करे है नर नार जे ए हा,
अरे सोनाला काकड़ मे बनीयो देवरो भेरूजी,
निवन करे है नर नार जे ए हा।।



आया भगतो रा टोला आपरे भेरूजी,

अरे धोक लगावन चरना माय जे ए हा,
आया भगतो रा टोला आपरे भेरूजी,
अरे धोक लगावन चरना माय जे ए हा।।



अरे तेल चढावु थारे बाकला भेरूजी,

अरे चाढु चाढु लीलडीया नारेल जे ए हा,
अरे तेल चढावु थारे बाकला भेरूजी,
चाढु चाढु लीलडीया नारेल जे ए हा।।



अरे दिवला करू मै थारे देवरे भेरूजी,

अरे ज्योत जगावु थारे द्वार जे ए हा,
अरे दिवला करू मै थारे देवरे भेरूजी,
ज्योत जगावु थारे द्वार जे ए हा।।



अरे रमेश भण्डारी री सुनजो विनती भेरूजी,

अरे प्रकाश ने राखो चरना माय जे ए हा,
अरे रमेश भण्डारी री सुनजो विनती भेरूजी,
प्रकाश ने राखो चरना माय जे ए हा।।



मिन्दर रो आडो थे तो खोलदो पुजारी,

दर्शन करवा रो म्हारो नेम जे ए हा,
फुलडा चढावु चरना मायने पुजारी,
अरे सेवा करनो म्हारो नेम जे ए हा।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।