प्रथम पेज राजस्थानी भजन ओ भोला मैं थाने पूछूं बात पहाड़ों में की कर आवङियो

ओ भोला मैं थाने पूछूं बात पहाड़ों में की कर आवङियो

ओ भोला मैं थाने पूछूं बात,
पहाड़ों में की कर आवङियो,
ओ गंवरा धूनी धुखे दिन रात,
भक्ति में लीन रेवां ए।।



ओ बाबा संग में भूतों का टोला,

भूतों संग कीकर रेवो ओ,
ओ गंवरा डोरी है हमारे हाथ,
भूत म्हारे कई बिगाङे ओ।।



ओ बाबा सर्प गले रो हार,

सर्पों संग किकर रेवो ओ,
ओ गवंरा पिया जहर का प्याला,
सर्प म्हारो कई बिगड़े ओ।।



ओ बाबा बैठा रे पहाङो रे माई,

नीर थाने कुण पिलावे ओ,
ओ गंवरा सिर पर गंगा की धार,
धार म्हारी प्यास बुझा ओ।।



ओ भोला रोज धरू मैं ध्यान,

बैङो म्हारो पार लगाओ ओ,
‘रमेश सारण’ यश गावे,
महादेव रो म्यूजिक प्यारो ओ।।



ओ भोला मैं थाने पूछूं बात,

पहाड़ों में की कर आवङियो,
ओ गंवरा धूनी धुखे दिन रात,
भक्ति में लीन रेवां ए।।

गायक / प्रेषक – रमेश सारण बाड़मेर।
9571547445


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।