म्हारा खाटू वाला श्याम ओ म्हारा लीले वाला श्याम लिरिक्स

म्हारा खाटू वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम,
सिद्ध श्री शुभ ओपमा थाने,
पावा ढोक प्रणाम जी,
समाचार एक पंच जो थासु,
बहुत जरुरी काम जी,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।

तर्ज – आ लौट के आजा मेरे मीत।



घणा मान स्यु लिख्यो आज थारो,

उत्सव एक मनाणो है,
थोड़ो लिख्यो घणो समझोगा,
थाने निश्चय आणो है,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।



सगळा साथ मिल घणा चाव स्यु,

नित की मंगल गावे है,
और बात सब ठीक ठाक पर,
थारी याद सतावे है,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।



सेवक थारा घणा उनमना,

था बिन बहुत उदास जी,
जी में हो तो करो कलेवा,
आकर म्हारे पास जी,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।



भूल चूक सब माफ़ करो,

म्हणे बैगा दर्शन दीजो जी,
दास बिहारी के नैणा में,
हरदम बैठ्या रीझो जी,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।



म्हारा खाटू वाला श्याम,

ओ म्हारा लीले वाला श्याम,
सिद्ध श्री शुभ ओपमा थाने,
पावा ढोक प्रणाम जी,
समाचार एक पंच जो थासु,
बहुत जरुरी काम जी,
म्हारा खाटु वाला श्याम,
ओ म्हारा लीले वाला श्याम।।

स्वर – संजय मित्तल जी।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें