प्रथम पेज कृष्ण भजन चाहे रूठे सब संसार मगर मेरा श्याम नही रूठे लिरिक्स

चाहे रूठे सब संसार मगर मेरा श्याम नही रूठे लिरिक्स

चाहे रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे,
मेरी साँसें थम जाएँ,
मगर विश्वास नही टूटे,
चाहें रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे।।

तर्ज – हम भूल गए रे हर बात।



अफ़सोस मुझे उस पल का है,

जब घोर अंधेरा छाया था,
मेरी आँखें रोकर हारी,
कोई नज़दीक ना आया था,
झूठे सब रिश्तेदार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे,
चाहें रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे।।



मजधार में थी दरकार मुझे,

जाना था भव से पार मुझे,
अपनो ने नज़रें फेरी थी,
बाबा का मिला तब प्यार मुझे,
चाहे डूबू अब मजधार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे,
चाहें रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे।।



बिन माँगे झोली भरता है,

मेरे दिल की बात समझता है,
‘सोनी’ जब श्याम को याद करूँ,
ये दौड़ा दौड़ा आता है,
चाहे कर दे सब इनकार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे,
चाहें रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे।।



चाहे रूठे सब संसार,

मगर मेरा श्याम नही रूठे,
मेरी साँसें थम जाएँ,
मगर विश्वास नही टूटे,
चाहें रूठे सब संसार,
मगर मेरा श्याम नही रूठे।।

Singer – Akansha Mittal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।