मनडो नहीं लागे माला में नही है जीव थारो भजनो में

मनडो नहीं लागे माला में,
नही है जीव थारो भजनो में,
नहीं है जीव थारो भजनो में,
मनडो नी अब लागे माला मे।।



ए आय सतसंग मे नीचो बैठो,

मनडो लगायो बातो में,
आय सतसंग मे नीचो बैठो,
मनडो लगायो बातो में,
मनडो लगायो बातो में,
नही है जीव थारो भजनो में,
मनडो लगायो बातो में,
नही है जीव थारो भजनो में।।



बाग बगीचा जावण लागो,

फुलडा अब चुग रयो राता मे,
बाग बगीचा जावण लागो,
फुलडा अब चुग रयो राता मे,
फुलडा अब चुग रयो राता मे,
नही है जीव थारो भजनो में,
फुलडा अब चुग रयो राता मे,
नही है जीव थारो भजनो।।



बेटा ने परणाय ने लायो,

घर में बिन्दनीया रा हारा ने,
बेटा ने परणाय लायो,
घर में बिन्दनीया रा हारा ने,
घर में बिन्दनीया रा हारा ने,
मनडो नी लागे माला मे,
घर में बिन्दनीया रा हारा ने,
नही है जीव थारो भजनो में।।



ए जिला नागौर गाँव अमरपुरा,

माली लिखमोजी केवा ने,
जिला नागौर गाँव अमरपुरा,
माली लिखमोजी केवा ने,
अरे माली लिखमोजी केवा ने,
अमरापुर रा रेवा वे,
माली लिखमोजी केवा ने,
अमरापुर रा रेवा वे,
मनडो नी लागे माला मे,
नही है जीव थारो भजनो में।।



मनडो नहीं लागे माला में,

नही है जीव थारो भजनो में,
नहीं है जीव थारो भजनो में,
मनडो नी अब लागे माला मे।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


https://youtu.be/NWJxYZe8MN8

इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

ॐ जय खोजीजी महाराज आरती लिरिक्स

ॐ जय खोजीजी महाराज आरती लिरिक्स

ॐ जय खोजीजी महाराज, स्वामी जय चतुर्भुज महाराज, गाँव इटाखोई जन्में, पिता चेतनदास।।ॐ जय।। वत्स गौत्र लाप्स्या जोशी, नाम चतुर्भुजदास, स्वामी नाम चतुर्भुजदास, माघ पूर्णिमा को आये, जो महिना है…

आवो आंगनीये एक बार मारा मोमाजी महाराज भजन

आवो आंगनीये एक बार मारा मोमाजी महाराज भजन

आवो आंगनीये एक बार, मारा मोमाजी महाराज, थोरी घणी करू मनवार, लुल लुल जोडु थोने हाथ।। अरे मोमा घोडो चढेने आया, आवो आवो आवो आप, सोवे भालो हाथ रे माय,…

सत री संगत गंगा गोमती भजन लिरिक्स

सत री संगत गंगा गोमती भजन लिरिक्स

सत री संगत गंगा गोमती, सुरसत काशी प्रयागा हो, लाखो पापीड़ा इणमे उबरे, डर जमड़ो भागा हो, सत रीं संगत गंगा गोंमती रे हा।। ए भई ध्रुवजी और प्रहलाद ने,…

साधो भाई रत्न हाथ में आयो भजन लिरिक्स एवं दुर्लभ सवैया

साधो भाई रत्न हाथ में आयो भजन लिरिक्स एवं दुर्लभ सवैया

साधो भाई रत्न हाथ में आयो, प्रश्न – कौन तृण से तुच्छ, कौन सुमिरन से प्यारो, कौन दूध से स्वेत, कौन काजल से काळो। कौन सूरज से तेज, कौन मद…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे