देवजी थाको मंदिर घणो भारी हो भजन लिरिक्स

देवजी थाको मंदिर घणो भारी हो,

दोहा – दुखिया का दुख मेटिया,
मारो पीपल को भरतार,
देवमाल्या के देव रे,
कोई बाजे ढोल नगार।

देवजी थाको मंदिर घणो भारी हो,
नारायण थाको मंदिर घणो भारी हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।



ओ मारा देव जी मालिड़ा की बेटी आई हो,

नारायण फुलड़ा को हार थारे लाई ओ,
देवजी चढ़ती उतरती हारी हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।



देवजी सुनारिया की बेटी आई हो,

देवजी चांदी वालों छत्तर लेकर आई हो,
नारायण थाको मंदिर घणो भारी हो,
देवजी देवमाल्या को देवरो भारी हो।।



देवजी कुमारिया की बेटी आई हो,

देवजी ठंडा जल को कलश लेकर आई हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।



देवजी दर्जीडा की बेटी आई हो,

देवजी पैर बने बागो लेकर आई हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।



देवजी थाणा को रामेशर थाने ध्यावे ओ,

देवजी शरणा मांई लजया माकी राखो ओ,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।



देवजी थाको मंदिर घणो भारी हो,

नारायण थाको मंदिर घणो भारी हो,
नारायण चढ़ती का गोडा दुखे हो,
देवजी उतरती की कमरिया दुखे हो,
देवजी थाकों मंदिर घणो भारी हो।।

गायक- धूल सिंह कड़ीवाल।
लेखक – डीजे रमेश।
थाना, तहसील मांडल, जिला भीलवाड़ा।
मोबाइल नंबर 97836 23840


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें