रिमझिम उतारू थारी आरती रामदेवजी आरती लिरिक्स

रिमझिम उतारू थारी आरती,

दोहा – लीलो घोडो नवलखो,
मोत्या जडी लगाम,
घोडे चढिया रामदेव,
रूनीचा रो श्याम।



ओ बाबा राम रणुजे वाला,

गल बीच मोतीयन की माला,
हाथ लिए हो भाला,
रिमझिम उतारू थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



घिरत मिठाई थारे चढे चूरमा,

धूपा री महकार पडे,
वीणा रे तन्दुरा थारे नोपत बाजे,
झालर री झनकार पडे,
ओ माता मैणादे रा लाला,
लीले घोडलीये वाला,
भगता रा हो रखवाला
रिमझिम उतारूँ थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



गंगा ने जमुना बहे सरस्वती,

रामदेव बाबो स्नान करे,
दूरा देशारा थारे आवे यात्री,
दरगाह रे आगे निवन करे,
ओ माता मैणादे रा लाला,
लीले घोडलीये वाला,
भगता रा हो रखवाला
रिमझिम उतारूँ थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



आंधलीया ने आँखीया देवे,

पांगलीया ने पाँव जी,
कोढिया रो कोढ मिटावे,
रूनीचा रो श्याम जी,
ओ माता मैणादे रा लाला,
लीले घोडलीये वाला,
भगता रा हो रखवाला
रिमझिम उतारूँ थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



हरि रे चरनो मे भाटी हरजी बोल्या,

नवखंड मे निशान धुरे,
चार खूट ओर चौदह भुवन मे,
धणीया थारी कलम फिरे,
ओ माता मैणादे रा लाला,
लीले घोडलीये वाला,
भगता रा हो रखवाला
रिमझिम उतारूँ थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



लाछा सुगणा करे आरती,

हरजी चंवर ढुलावे जी,
भाव भक्ति सु जो कोई ध्यावे,
मनवांछित फल पावे जी,
ओ माता मैणादे रा लाला,
लीले घोडलीये वाला,
भगता रा हो रखवाला
रिमझिम उतारूँ थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।



ओ बाबा राम रणुजे वाला,

गल बीच मोतीयन की माला,
हाथ लिए हो भाला,
रिमझिम उतारू थारी आरती,
ओ बाबा रिमझिम उतारू थारी आरती।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें