आदत बुरी सुधार लो बस हो गया भजन लिरिक्स

आदत बुरी सुधार लो,
बस हो गया भजन
​मन की तरंग मार लो,
बस हो गया भजन,
हो गया भजन,
बस हो गया भजन।।



दृष्टि में तेरी खोट है,

दुनिया निहार ले,
दृष्टि में तेरी खोट है,
दुनिया निहार ले,
गुरु ज्ञान अंजन सार लो,
बस हो गया भजन, 
बस हो गया भजन।।



दुनिया तुम्हे बुरा कहे,

पर तुम करो क्षमा,
दुनिया तुम्हे बुरा कहे,
पर तुम करो क्षमा,
वाणी को भी संभाल लो,
बस हो गया भजन, 
बस हो गया भजन।।



विषियों की तीव्र आग में,

जलता ही जा रहा,
विषियों की तीव्र आग में,
जलता ही जा रहा,
​मन की तरंग मार लो,
बस हो गया भजन, 
बस हो गया भजन।।



रिश्तो से मोह त्याग कर,

कृष्णा से प्रेम कर,
रिश्तो से मोह त्याग कर,
कृष्णा से प्रेम कर,
इतना ही मन विचार लो,
बस हो गया भजन, 
बस हो गया भजन।।



जाना है सबको एक दिन,

दुनिया को त्याग के,
जाना है सबको एक दिन,
दुनिया को त्याग के,
जीवन को संभाल लो,
बस हो गया भजन, 
बस हो गया भजन।।



आदत बुरी सुधार लो,

बस हो गया भजन
​मन की तरंग मार लो,
बस हो गया भजन,
हो गया भजन,
बस हो गया भजन।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

दीपो से सजे घर द्वार दीपावली आई है गीत लिरिक्स

दीपो से सजे घर द्वार दीपावली आई है गीत लिरिक्स

दीपो से सजे घर द्वार, दीपावली आई है हाँ आई है, खुशियो की सौगात लाई है, मनभावन त्यौहार, आया सुखदाई है सुखदाई है, रोशनी घर घर में छाई है।। सदियों…

दो दिन का जगत मे मेला सब चला चली का खेला भजन लिरिक्स

दो दिन का जगत मे मेला सब चला चली का खेला भजन लिरिक्स

दो दिन का जगत मे मेला, सब चला चली का खेला।। कोई चला गया कोई जावे, कोई गठरी बाँध सिधारे, कोई खड़ा तैयार अकेला, कोई खड़ा तैयार अकेला, सब चला…

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने वही ये श्रष्टि चला रहे है लिरिक्स

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने वही ये श्रष्टि चला रहे है

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने, वही ये श्रष्टि चला रहे है, जो पेड़ हमने लगाया पहले, उसी का फल हम अब पा रहे है, रचा है सृष्टि को…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “आदत बुरी सुधार लो बस हो गया भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे