कोई जब तुम्हारा सहारा ना हो भजन लिरिक्स

कोई जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो,
तब तुम चले आना दरबार में,
ये बाबा खड़ा है,
खड़ा ही रहेगा तुम्हारे लिये,
कोईं जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो।।

तर्ज – कोई जब तुम्हारा ह्रदय।



अंधेरो भरी हर तेरी राह में,

चले बन उजाला तेरे साथ में,
हो रंगीन पल या ग़मों की घड़ी,
तेरा हाथ होगा सदा हाथ में,
तन्हाई जो तुझको डराने लगे,
कदम ग़र तेरे डगमगाने लगे,
तब तुम चले आना दरबार में,
ये बाबा खड़ा है,
खड़ा ही रहेगा तुम्हारे लिये,
कोईं जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो।।



है ख़ुशियों में साथी तेरे हर कोई,

बुरे वक्त में सब बदल जाएँगे,
समझता रहा तू जिन्हें हमसफ़र,
तुझे छोड़ आगे निकल जाएँगे,
जब अपने भी आँखे दिखाने लगे,
ज़माना भी ठोकर लगाने लगे,
तब तुम चले आना दरबार में,
ये बाबा खड़ा है,
खड़ा ही रहेगा तुम्हारे लिये,
कोईं जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो।।



घड़ी दो घड़ी की तेरी ज़िन्दगी,

ये पानी के जैसे गुज़र जाएगी,
कर ले भजन तू मेरे श्याम का,
जो बिगड़ी है वो भी संवर जाएगी,
‘तरुण’ जब समय पास आने लगे,
ये साँसे भी हाथों से जाने लगे,
Bhajan Diary Lyrics,
तब तुम चले आना दरबार में,
ये बाबा खड़ा है,
खड़ा ही रहेगा तुम्हारे लिये,
कोईं जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो।।



कोई जब तुम्हारा सहारा ना हो,

फँसी नाव को जब किनारा ना हो,
तब तुम चले आना दरबार में,
ये बाबा खड़ा है,
खड़ा ही रहेगा तुम्हारे लिये,
कोईं जब तुम्हारा सहारा ना हो,
फँसी नाव को जब किनारा ना हो।।

Singer – Rajni Rajasthani


पिछला भजनआजा ओ श्याम सांवरा मुझको तेरा ही है आसरा लिरिक्स
अगला भजनमेरा दिल तुझपे कुर्बान है मेरे श्याम सांवरे भजन लिरिक्स

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें