कटती गाया री पुकार सांभलजो बीरा भजन लिरिक्स

कटती गाया री पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया री पुकार,
जद सु ए गाया कट रही,
धर्म ध्वजा थारी झुक गई,
नीची निज़रा सु मत भाल,
कटती गाया रीं पुकार।।



पढ़ लो रे वेद पुराण,

बतलायों संतो,
पाँच माता रो प्रमाण,
पहली तो जननी माता,
दुजी आ धरती माता,
गउ गंगा और अंबा माँ,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



पशु नहीं है गौ मां,

बतलाए संतो,
पशु नहीं रे गउ माँ,
देवों रो वास इनमे,
तारे भव त्रास पल में,
पूज्या वैतरणी कर दे पार,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



कलयुग कसाई काल,

बिलखे हैं गाया,
सुन लीज नर-नारी,
चारा पानी ने तरसे,
भूखी प्यासी आ भटके,
कोई ना लेवे संभाल,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



राक्षस बणयो रे इंसान,

खावड़ा ने लागो गो मातारो मास,
बलबलतो पानी डोले,
ऊबी आडी ने चीरे,
आरा चाले हाड मास,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



जाग हिन्दु अब जाग,

कई जोवे बाटा,
कद होसी अवतार,
करना हो तो खुद ही कर लो,
गाया के खातिर मरना,
करो कोई शुरुआत,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



ब्राह्मण कन्या ने गौ माता,

हत्या रो लागे,
घोर नरक कुंभी पाक,
‘उदय सिंह’ भजन बनाया,
भारत में गाय सुनायों,
राष्ट्रमाता रो मिलजो मान,
कटती गाया रीं पुकार,
सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार।।



कटती गाया री पुकार,

सांभलजो बीरा,
कटती गाया रीं पुकार,
जद सु ए गाया कट रही,
धर्म ध्वजा थारी झुक गई,
नीची निज़रा सु मत भाल,
कटती गाया रीं पुकार।।

लेखक / गायक और प्रेषक – उदय सिंह जी राजपुरोहित।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें