भोले नाथ ने मनावण जी थे तो राखो नी छतर वाली छाया

भोले नाथ ने मनावण जी,
थे तो राखो नी छतर वाली छाया ओ,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



भोले शिवरात्रि मन भावे जी,

सब मिल जुल भोग लगावा जी,
शंकर देव ने मनावण जी,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



देवा शीश पर गंगा खलके जी,

थारे मूकट चन्द्रमा चमके जी,
शंकर देव ने मनावण जी,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



थारे गले मे नाग विराजे जी,

थारे अंग भभुती सोवे ओ,
शंकर देव ने मनावण जी,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



हाथ मे त्रिशूल सोवे जी,

थारे डम-डम डमरू बाजे जी
शंकर देव ने मनावण जी,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



भोला बाड़मेर मे धाम बणीयो जी,

देवा सूजेश्वर धाम जोर बणीयो जी,
थाने सुरेश नित उठ ध्यावे जी,
शंकर देव ने मनावण जी,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।



भोले नाथ ने मनावण जी,

थे तो राखो नी छतर वाली छाया ओ,
भोलें नाथ ने मनावण जी।।

प्रेषक – रवींद्र राजपुरोहित।
गायक – सुरेश जांगिड़ बाड़मेर।
मो 7073648651


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

कान्हो बैठो कदम की डालीया रे कृष्ण भजन लिरिक्स

कान्हो बैठो कदम की डालीया रे कृष्ण भजन लिरिक्स

कान्हो बैठो कदम की डालीया रे, ओ तो बंसरी बजावे दे दे तालियांं रे, कान्हा बैठो कदम की डालीया रे।। आओ रे कानुडा आपा बागा में चाला, थे तो चंपो…

छोड़ चल्यो बिणजारो म्हारी भोली काया लिरिक्स

छोड़ चल्यो बिणजारो म्हारी भोली काया लिरिक्स

छोड़ चल्यो बिणजारो, म्हारी भोली काया। दोहा – मन कहे मैं धन करूं, धन कर करूं जी गुमान, राम कतरणी हाथ में, राखे ला निजमान। जो तू आया जगत में,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे