ए सुरता गुरू मुखी गंगा नाथ अगम पथ जेलीया

ए सुरता गुरू मुखी गंगा नाथ,
अगम पथ जेलीया,
ए सुरता शरने गुरूजी रे लाग,
ए शरना पथ लेवीया,
ए शरने कोई गुरूजी रे लागी,
ए शरना पथ लेवीया।।



ए सुरता सतसंग मोटो धाम,

परमार्थ जेलीया,
ए कुमती कमाई छोड ए,
ए कुमती कमाई छोड़ ए,
ए त्रिशम को मारना,
ए सुरता गुरू मुखीं गंगा नाथ,
अगम पथ जेलीया।।



ए सुरता लाल बसे घट माय,

ए सुरता लाल बसे घट माय ,
निंगे कर जोवीया,
ए सुरता लाल बसे घट माय,
निंगे कर जोवीया,
ए सुरता ए आडी फिरसी रे,
उसी को मारना,
ए सुरता आडी फिरसी रे,
उसी को तोडना।।



ए सुरता पवनपीरी,

पच्चीस पार रक तार एक पोवता,
ए सुरता घर छोडो उकसान
ए सुरता घर छोडो उकसान,
खेंच कर जोडीया,
ए सुरता घर छोडो उकसान,
खेंच कर जोडीया,
ए सुरता गुरू मुखीं गंगा नाथ,
अगम पथ जेलीया।।



ए सुरता सुमिरो स्वासो स्वास,

वोही घर आवीया,
ए सुरता सुमिरो स्वासो स्वास,
वोही घर आवीया,
ए सुरता केवे मनुराम,
ए सुरता केवे मनुराम,
गुरू गुण गावता,
ए सुरता गुरू मुखीं गंगा नाथ,
अगम पथ जेलीया।।



ए सुरता गुरू मुखी गंगा नाथ,

अगम पथ जेलीया,
ए सुरता शरने गुरूजी रे लाग,
ए शरना पथ लेवीया,
ए शरने कोई गुरूजी रे लागी,
ए शरना पथ लेवीया।।

गायक – शंकर टाक जी, 
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें