ॐ गोऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम् भजन लिरिक्स

ॐ गोऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम् भजन लिरिक्स

ॐ गोऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



कोटी कोटि देव गऊ अंग मंगलम्,

साजो गो सेव गऊ संग मंगलम्,
सांचे मन से करो गऊ भक्ति मंगलम्,
वचन सिद्ध होवे गऊ शक्ति मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गऊ हित आया जगदीश मंगलम्,

ऋषि मुनि अम्बे भुज दिश मंगलम्,
गोकुल में चराई काना गोउ मंगलम्,
बड़ा बड़ा असुर संघरया मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



देवजी की लीला देवास मंगलम्,

गाया ने चरायो हरियो घास मंगलम्,
रूणिचा रा नाथ भया ग्वाल मंगलम्,
सुखोड़ा धोरा में की हरिया मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गाया खातिर तजे घर करणी मंगलम्,

जावे गऊ चारन जंगल धरणी मंगलम्,
गऊ द्रोही भुत कान्हो मारे मंगलम्,
गोचर ओरण थरपे कोस बारह मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गाया कारण जावे चवरी छोड़ मंगलम्,

चौथा फेरा उठे पाबु राठौड़ मंगलम्,
देवल बाई री गाया पाछी लाय मंगलम्,
गऊ भक्त अमर नाथ पाय मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



तजे गाया खातर तेजो प्राण मंगलम्,

लड़े सुरों गाया हित घमसाण मंगलम्,
जग में पायो नाम धोल्यो जाट मंगलम्,
तेजो दशमी पूज्यो रहे ठाट मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



नांदियो असवारे महादेव मंगलम्,

बैल बछड़ा करे करसा सेव मंगलम्,
खेती नित सुधारी गऊ जाया मंगलम्,
गाया रे गोबर सु मिली माया मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



घर घर राखो सब गाय मंगलम्,

बाल किया दूधो नित पाय मंगलम्,
बल बुद्धिवान व्है संतान मंगलम्,
सद्ध बुद्धि धारे सब इंसान मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गोचर मंगलम् गोसाल मंगलम्,

रया त्यागी तपसी रखवाल मंगलम्,
साचे मन सेवा साजे ग्वाल मंगलम्,
रहे जहां सदा हरियाल मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



पावन गुणगारी गौमूत मंगलम्,

काटे रोग कष्ट भागे भूत मंगलम्,
पीवे नावे रोज राम दूत मंगलम्,
मिटे गौमूत्र से अछूत मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गऊ सेवा व्यापे हिये राम मंगलम्,

सुधरे जमारो सुभकाम मंगलम्,
सरे नही दीया उपदेश मंगलम्,
पहरों साचो गऊ भक्त वेश मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



गऊ मंगलम् गऊ ग्रास मंगलम्,

गऊ सेवा वेकुण्टा को वास मंगलम्,
धरत गऊ को नित ध्यान मंगलम्,
हिन्दू मंगलम् हिंदुस्तान मंगलम्,
ॐ गऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,
सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।



ॐ गोऊ मंगलम् गऊ मात मंगलम्,

सुर मुनि ऋषि जपे जाप मंगलम्,
पावन जाप मंगलम्।।

गायक – प्रकाश माली जी।
भजन प्रेषक – श्रवण सिंह राजपुरोहित।
सम्पर्क – +91 90965 58244


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें