काशी रे नगर सु भेरू आया तो करी भजन लिरिक्स

काशी रे नगर सु भेरू आया तो करी,
ओ भेरूजी आया तो करी,
सोनाला नगरी में दर्शन,
दीना तो करी ए हा।।



अरे खारक खोपरा थारे चाढु तो करी,

ओ भेरूजी चाढु तो करी,
दुर्बलियो देखने दर्शन,
देवीजो हरि ए हा,
अरे खारक खोपरा थारे चाढु तो करी,
ओ भेरूजी चाढु तो करी,
दुर्बलियो देखने दर्शन,
देवीजो हरि ए हा।।



राईका रे वेले भेरूजी आया तो करी,

बापजी आया तो करी,
घास मे घुमटीयो मे,
खाया तो करी ए हा,
राईका रे वेले भेरूजी आया तो करी,
बापजी आया तो करी,
घास मे घुमटीयो मे,
खाया तो करी ए हा।।



पुजारी री वेले भेरूजी आया तो करी,

ओ बापजी आया तो करी,
सोनाला नगरी में जगमग,
ज्योता तो जगी ए हा,
पुजारी री वेले भेरूजी आया तो करी,
ओ बापजी आया तो करी,
सोनाला नगरी में जगमग,
ज्योता तो जगी ए हा।।



भाकरी री धुवाडा मे बैठा तो करी,

भेरूजी बैठा तो करी,
ढोल ने नगाडा थारे,
नोपता घुरी ए हा,
भाकरी री धुवाडा मे बैठा तो करी,
भेरूजी बैठा तो करी,
ढोल ने नगाडा थारे,
नोपता घुरी ए हा।।



बांज्या री वेले भेरूजी आया तो करी,

ओ बापजी आया तो करी,
पालनो हिंडायो के,
किलकारियां करी ए हा,
बांज्या री वेले भेरूजी आया तो करी,
ओ बापजी आया तो करी,
पालनो हिंडायो के,
किलकारियां करी ए हा।।



अरे रमेश भगत रे वेले आया तो करी,

बापजी आया तो करी,
अर्जुन गावे भजन भाव सु,
आशा तो पुरी ए हा,
अरे रमेश भगत रे वेले आया तो करी,
बापजी आया तो करी,
अर्जुन गावे भजन भाव सु,
आशा तो पुरी ए हा।।



काशी रे नगर सु भेरू आया तो करी,

ओ भेरूजी आया तो करी,
सोनाला नगरी में दर्शन,
दीना तो करी ए हा।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

धोरा वाली धरती नखत बना काली नागिन डोले रे

धोरा वाली धरती नखत बना काली नागिन डोले रे

धोरा वाली धरती नखत बना, काली नागिन डोले रे। दोहा -धिन धुणो धीन धाम ने, धिन धिन कलीया नाडी री पाल, धिन नाम नखतेश रो, म्हारा पुर्ण करजो काम। धोरा…

दादाई भाकर में आप बिराजो जय आशापुरा मात की

दादाई भाकर में आप बिराजो जय आशापुरा मात की

दादाई भाकर में आप बिराजो, आशापुरा मम माई मारी माँ, जय आशापुरा मात की, दादई भाकर मे आप बिराजो, आशापुरा मम माई मारी माँ, जय आशापुरा मात की।। जोखर भाकर…

सार शब्द ले ऊबरो कबीर राजस्थानी भजन लिरिक्स

सार शब्द ले ऊबरो कबीर राजस्थानी भजन लिरिक्स

सार शब्द ले ऊबरो, दोहा – बंदी छोड़ दयाल प्रभू, विघ्न विनाशक नाम, आ शरण शरण बंदौ चरण, सब विधि मंगल काम। मंगल में मंगल करण, मंगल रूप कबीर, ध्यान…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे