हरी थारा नाम हजार कैसे लिखू कंकु पत्री भजन लिरिक्स

हरी थारा नाम हजार,
सांवरिया रा नाम हजार,
बनवारी थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे यशोदा रो,

कोई केवे देवकी रो,
कोई केवे नंदजी रो लाल
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे बंशी वालो,

कोई केवे मुरली वालो,
कोई केवे गाया रो ग्वाल,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे राधा पति,

कोई केवे रुक्मण पति,
कोई केवे गोपियों रो श्याम,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे मथुरा वालो,

कोई केवे गोकुल वालो,
कोई केवे द्वारिका रो नाथ,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे बनवारी,

कोई केवे गिरधारी,
कोई केवे त्रिलोकी रो नाथ,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे गिरवरधारी,

कोई केवे श्याम मुरारी,
कोई केवे मदन गोपाल,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



कोई केवे नन्द किशोर,

कोई केवे माखन चोर,
नरसी केवे दिन दयाल,
कैसे लिखू कंकु पत्री,
सांवरिया थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।



हरी थारा नाम हजार,

सांवरिया रा नाम हजार,
बनवारी थारा नाम हजार,
मैं कैसे लिखू कंकु पत्री।।

– भजन प्रेषक –
श्रवण सिंह राजपुरोहित


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

नमतो नमतो आवु मोरी मां पग मे झांझर बाजता

नमतो नमतो आवु मोरी मां पग मे झांझर बाजता

नमतो नमतो आवु मोरी मां, पग मे झांझर बाजता, नमतो नमतो आऊं मोरी मां, पैदल पैदल आऊं मोरी मां, पग मे झांझर बाजता।। सोना रूपा री ईट पडावु, मंदिरीयो बणावु…

ॐ जय खोजीजी महाराज आरती लिरिक्स

ॐ जय खोजीजी महाराज आरती लिरिक्स

ॐ जय खोजीजी महाराज, स्वामी जय चतुर्भुज महाराज, गाँव इटाखोई जन्में, पिता चेतनदास।।ॐ जय।। वत्स गौत्र लाप्स्या जोशी, नाम चतुर्भुजदास, स्वामी नाम चतुर्भुजदास, माघ पूर्णिमा को आये, जो महिना है…

घनश्याम म्हारे हिवड़े में रम जाओ प्यारा श्याम लिरिक्स

घनश्याम म्हारे हिवड़े में रम जाओ प्यारा श्याम लिरिक्स

घनश्याम म्हारे हिवड़े में, रम जाओ प्यारा श्याम, मैं दास छू चरण कमल रो, ओ जी प्यारा श्याम, घनश्याम म्हारे हिवडे में, रम जाओ प्यारा श्याम।। जीवन नैया दास की,…

मन लागो मेरो यार फकीरी में कबीर भजन लिरिक्स

मन लागो मेरो यार फकीरी में कबीर भजन लिरिक्स

मन लागो मेरो यार फकीरी में, श्लोक – कबीर खड़ा बाजार में, माँगत सबकी खैर, ना किसी से दोस्ती, ना किसी से बैर। कबीर कहे कमाल को, दो बाता सिख…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे