कान्हा रे थोडा सा प्यार दे चरणो मे बैठा के तार दे लिरिक्स

कान्हा रे थोडा सा प्यार दे,
चरणो मे बैठा के तार दे,
ओ गौरी घुंघट उघाड़ दे,
प्रेम की भिक्षा झोली में डाल दे।।



प्रेम गली में आके गुजरिया,

भूल गई रे घर कि डगरिया,
जब तक साधन, तन, मन, जीवन,
सब तुझे अर्पण, प्यारे सांवरिया, 

माया का तुमने रंग ऐसा डाला,
बंधन मे बंध गया बाँधने वाला,
कौन रमापति कैसा ईश्वर,
मैं तो हूँ गोकुल का ग्वाला,
ग्वाला रे थोडा सा प्यार दे,
ग्वालिन का जीवन सवार दे।।



आत्मा-परमात्मा के,

मिलन का मधु मास है,
यही महा रास है, यही महा रास है
त्रिभुवन का स्वामी, भक्तों का दास है,
यही महा रास है, यही महा रास है,
कृष्ण कमल है, राधे सुवास है,
यही महा रास है, यही महारास है
इसके अवलोकन की युग युग को प्यास है, 
यही महारास है, यही महा रास है।। 

कान्हा रे थोड़ा सा प्यार दे,
चरणो मे बैठा के तार दे।। 



तू झूठा, वचन तेरे झूठे,

मुस्का के भोली राधा को लूटे,
मै भी हु सच्चा, वचन मेरे सच्चे,
प्रीत मेरी पक्की, तुमारे मन कच्चे।

जैसे तू रखें, वैसे रहूंगी,
दुंगी परीक्षा पीड़ सहुंगी,
स्वर्गों के सुख भी मीठे ना लागे,
तू मिल जाये तो मोक्ष नाही मांगे 
कान्हा रे थोडा सा प्यार दे,
चरणो मे बैठा के तार दे।। 



सृष्टि के कण कण मै इसका आभास है,

यही महा रास है, यही महा रास है
हो तारो मै नर्तन, फुलोन मै उल्हास है
यही महारास है, यही महा रास है
मुरली की प्रतीद्वनी,  दिशाओ के पास है
यही महारास है, यही महा रास है
हो अध्यात्मिक चेतना का सबमे विकास है
यही महा रास है, यही महा रास है।। 


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

थाम लो ना हाथ मेरा सांवरे हारकर दरबार तेरे आया हूँ भजन लिरिक्स

थाम लो ना हाथ मेरा सांवरे हारकर दरबार तेरे आया हूँ भजन लिरिक्स

थाम लो ना हाथ मेरा सांवरे, हारकर दरबार तेरे आया हूँ, जीत जाऊंगा तेरी जो हो कृपा, मन में ये विश्वास लेकर आया हूँ, थाम लो ना हाथ मेरा साँवरे,…

माँ यशोदा का नटखट लाल मटकी फोड़ गयो भजन लिरिक्स

माँ यशोदा का नटखट लाल मटकी फोड़ गयो भजन लिरिक्स

माँ यशोदा का नटखट लाल, मटकी फोड़ गयो, वो माने ना मेरी बात को, के मटकी फोड़ गयो।। माखन चुराता है हमको सताता है, हमें तड़पा के वो कहीं छुप…

डाकिया जा रे श्याम ने संदेशो दीजे भजन लिरिक्स

डाकिया जा रे श्याम ने संदेशो दीजे भजन लिरिक्स

( सेठ डाकिया से ) डाकिया जा रे, श्याम ने संदेशो दीजे, श्याम ने जायत कह दीजे, भगत थारे दर्शन ने तरसे, डाकिया जा रे।। तर्ज – ओ बाबुल प्यारे।…

मैं तेरे प्यार में ऐसा डूबा प्रभु भजन लिरिक्स

मैं तेरे प्यार में ऐसा डूबा प्रभु जितना गहरा गया उतना पास आ गया

मैं तेरे प्यार में, ऐसा डूबा प्रभु, जितना गहरा गया, उतना पास आ गया, डूबकर भावों में, मैं जहाँ भी गया, सब कहते है की, तेरा दास आ गया, मैं…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

4 thoughts on “कान्हा रे थोडा सा प्यार दे चरणो मे बैठा के तार दे लिरिक्स”

  1. Hamari atma se jude hue bhawan shri krishna ka yah madhur geet jo aap ko ek alag hi anubhav ka ahsaas karata hai…bahot hi sundar….

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे