कान्हा ने ढूंढवा चाली राधिका रानी भजन लिरिक्स

कान्हा ने ढूंढवा,
चाली राधिका रानी,
कोई जल जमुना,
कि तीर खड़ा गिरधारी।।



जावो सखी भर ल्यावो,

जल कि झारी,
जल कि झारी,
ना जाने किधर से आय,
खड़ा गिरधारी।।



हाथो में हथफुल,

नाक में बाली,
नाक मे बाली,
जरा हसकर मुखड़े,
बोलो राधिका रानी।।



हरी-हरी चुडियाँ,

बिखर गयी आँगन मे,
बिखर गयी आँगन में,
चुडियाँ का होग्या,
तार तार मधुवन में।।



तबला बाज सांरगी,

ओर सितारा,
ओर सितारा,
कोई नाचे नंन्दजी रा लाल,
गोपियाँ रा प्यारा।।



चंन्द्र सखी भ्रज,

कृष्ण छवी न्यारी,
कृष्ण छवी न्यारी,
कोई जन्म जन्म वर,
पायो राधिका रानी।।



कान्हा ने ढूंढवा,

चाली राधिका रानी,
कोई जल जमुना,
कि तीर खड़ा गिरधारी।।

गायक / प्रेषक – मनोहर परसोया।
कविता साउँण्ड किशनगढ़।


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी सायल लिरिक्स

इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी सायल लिरिक्स

इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी, देव कला बरताई जियो, सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी, जुग माई जोत सवाई हो आ।। कुंकू केसर बाबा गार गलाऊँ, निपे चूड़ले रे…

केसर बरसे रे बिलाड़ा आईमाता रे दरबार

केसर बरसे रे बिलाड़ा आईमाता रे दरबार

केसर बरसे रे बिलाड़ा, आईमाता रे दरबार, अरे आईजी रे दरबार, मारे आईजी रे दरबार, केसर बरसें रे बिलाड़ा, आईमाता रे दरबार।। अरे अम्बापुर सु आया आईजी, नारलाई मे आया,…

हँसला साध संगत नित कर रे देसी चेतावनी बाणी

हँसला साध संगत नित कर रे देसी चेतावनी बाणी

हँसला साध संगत नित कर रे, दोहा – पिंड ब्रह्मांड को खोज के, चढ़िया अगम के देश, श्री लादुनाथ जी महाराज को, बार बार आदेश।। हँसला साध संगत नित कर…

म्हारा बाबा दुखडा मिटावन वेगा आवजो रामदेवजी भजन लिरिक्स

म्हारा बाबा दुखडा मिटावन वेगा आवजो रामदेवजी भजन लिरिक्स

म्हारा बाबा दुखडा मिटावन, वेगा आवजो, अजमल लाला अब मती, देर लगावजो, मारा बाबा दुखडा मिटावन, वेगा आवजो।। घणी जगह पर भटकीयो बाबा, दर दर माते टेकीया माथा, कुन मिटावे…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे