मनवा राखेनी विश्वास रामजी ने भूले काई रे लिरिक्स

मनवा राखेनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।



नव दस मास गर्भ में भाई,

आपत आयी रे,
नव दस मास गर्भ मे भाई,
आपत आयी रे,
जनमीयो पेला दूध तनावे,
जनमीयो पेला दूध तनावे,
अरे पीवा ताई रे,
ए मनवा राखेंनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।



किडी ने कण देवे रे रामय्यो,

मण हाथी ताई रे,
किडी ने कण देवे रे रामय्यो,
मण हाथी ताई रे,
अजगर पडीयो जाल में रे,
अजगर पडीयो जाल में रे,
दिन पुरसायी रे,
ए मनवा राखेंनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।



जल में पूरे थल में पूरे,

पहाडो माई रे,
जल में पूरे थल में पूरे,
पहाडों माई रे,
सुगवा ने मोती मिले रे भई,
सुगवा ने मोती मिले रे भई,
हंसा ताई रे,
ए मनवा राखेंनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।



रामानंद गुरू पूरा मिलीया,

सेन बताई रे,
रामानंद गुरू पूरा मिलीया,
सेन बताई रे,
कहत कबीर सुनो भई संतो,
कहत कबीर सुनो रे भई संतो,
पचे धोखा नाही रे,
ए मनवा राखेंनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।



मनवा राखेनी विश्वास,
रामजी ने भूले काई रे।।

गायक – सरिता जी खारवाल।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें