कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है भजन लिरिक्स

कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है,
माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है,
माता पिता को शरवण आँखे दिखा रहा है।।



पहले था एक रावण और एक ही थी सीता,

पहले था एक रावण एक ही थी सीता,
अब हर गली में रावण, सीता चुरा रहा है,
कलयुग ये केसी उल्टी गंगा बहा रहा है,
माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है।।



कह दो हर एक बहन से अब तो सतर्क रहना,

कह दो हर एक बहन से अब तो सतर्क रहना,
पापी भी अब यहाँ पर राखी बंधा रहा है,
कलयुग ये केसी उल्टी गंगा बहा रहा है,
माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है।।



इतिहास क्या लिखेगा अब वो महान भारत,

इतिहास क्या लिखेगा अब वो महान भारत,
अब हर गली में अर्जुन रिक्शा चला रहा है,
कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है,
माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है।।



मजदुर का एक बेटा रोटी को तरस रहा है,

मजदुर का एक बेटा रोटी को तरस रहा है,
पर सेठ जी का कुत्ता रबड़ी को खा रहा है,
कलयुग ये केसी उल्टी गंगा बहा रहा है,
माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है।।



कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है,

माता पिता को शरवण ठोकर लगा रहा है,
माता पिता को शरवण आँखे दिखा रहा है।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भरी उनकी आँखों में है कितनी करुणा भजन लिरिक्स

भरी उनकी आँखों में है कितनी करुणा भजन लिरिक्स

भरी उनकी आँखों में, है कितनी करुणा, जाकर सुदामा भिखारी से पूछो, है करामात क्या, उनके चरणों की रज में, जाकर के गौतम की नारी से पूछो।। कृपा कितनी करते…

बेटियां ईश्वर का वरदान हैं बेटी गीत लिरिक्स

बेटियां ईश्वर का वरदान हैं बेटी गीत लिरिक्स

बेटियां ईश्वर का वरदान हैं, जो कोख में अपनी बेटी को मरवाते, जीते जी तड़पते हैं कभी सुख नहीं पाते, बेटियाँ ममता की पहचान हैं, बेटियाँ ईश्वर का वरदान हैं।।…

क्या तन माँजता रे एक दिन माटी में मिल जाना लिरिक्स

क्या तन माँजता रे एक दिन माटी में मिल जाना लिरिक्स

क्या तन माँजता रे, एक दिन माटी में मिल जाना, पवन चले उड़ जाना रे पगले, पवन चले उड़ जाना रे पगले, समय चूक पछताना, समय चूक पछताना, क्या तन…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “कलयुग ये कैसी उल्टी गंगा बहा रहा है भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे