गौ माता की सेवा करले समझ ले गए चारो धाम भजन लिरिक्स

सौ तीरथ का पुण्य मिलेगा,
मिलेगा हर दुःख से आराम,
गौ माता की सेवा करले,
समझ ले गए चारो धाम।।

तर्ज – भला किसी का कर ना।



जिसने गौ की सेवा कर ली,

वो जीवन तो निहाल है,
गौ पालन से ही कन्हैया,
कहलाये गोपाल है,
गौ माता से प्रेम तू करले,
तेरे हो जाएंगे श्याम,
गौ माता की सेवा करलें,
समझ ले गए चारो धाम।।



जिसके एक स्पर्श से होता,

कितने ही पापो का नाश,
देवी देवता नदियाँ तीरथ,
करते जिसमे हर पल वास,
वेद पुराण और संत मुनि भी,
करते है जिसको प्रणाम,
गौ माता की सेवा करलें,
समझ ले गए चारो धाम।।



चाह कर भी तू भुला सके ना,

गौ माँ के अहसान को,
पूजना है तो पूज तू ‘सोनू’,
धरती के भगवान को,
जय गौ माता जय गोपाल,
रटते रहो सुबह शाम,
गौ माता की सेवा करलें,
समझ ले गए चारो धाम।।



सौ तीरथ का पुण्य मिलेगा,

मिलेगा हर दुःख से आराम,
गौ माता की सेवा करले,
समझ ले गए चारो धाम।।

स्वर – मनीष मेहता।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

पिंजरे के पंछी रे तेरा दर्द ना जाणे कोए हिंदी लिरिक्स

पिंजरे के पंछी रे तेरा दर्द ना जाणे कोए हिंदी लिरिक्स

पिंजरे के पंछी रे, तेरा दर्द ना जाणे कोए, तेरा दर्द ना जाणे कोए।। कह ना सके तू, अपनी कहानी,  तेरी भी पंछी, क्या जिंदगानी  रे,  विधि ने तेरी कथा लिखी है, …

साँसों का क्या भरोसा रुक जाए चलते चलते भजन लिरिक्स

साँसों का क्या भरोसा रुक जाए चलते चलते भजन लिरिक्स

साँसों का क्या भरोसा, रुक जाए चलते चलते, जीवन की है जो ज्योति, बुझ जाए जलते जलते, साँसो का क्या भरोसा, रुक जाए चलते चलते।। तर्ज – चलते चलते यूँही…

जरा सोच समझ अभिमानी चदरिया पुरानी हो गयी लिरिक्स

जरा सोच समझ अभिमानी चदरिया पुरानी हो गयी लिरिक्स

जरा सोच समझ अभिमानी, चदरिया पुरानी हो गयी, क्यों विशियन में लपटानी, चदरिया पुरानी हो गयी।। काशी पूजे मथुरा पूजे, मात पिता को कोई न पूजे, है जिनकी खरी ये…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे