तेज है लेकिन गमों की आंधियां टल जाएगी लिरिक्स

तेज है लेकिन गमों की,
आंधियां टल जाएगी,
इन चिरागों को ना छूना,
उंगलियां जल जाएगी।।



झिल में तुम मत नहाना,

मल मल के गोरा बदन,
आग पानी में लगेगी,
मछलियां जल जाएगी,
तेज है लेकिन गमो की,
आंधियां टल जाएगी।।



शेर ए गुलशन बागवा में,

अपना खुने दिल शामिल ना कर,
वरना तेरे इस बाग की,
तितलियां उड़ जाएगी,
तेज है लेकिन गमो की,
आंधियां टल जाएगी।।



मत सताना दुल्हनों को,

माल दौलत के लिए,
वरना एक दिन आपकी,
बेटी सताई जाएगी,
तेज है लेकिन गमो की,
आंधियां टल जाएगी।।



तेज है लेकिन गमों की,

आंधियां टल जाएगी,
इन चिरागों को ना छूना,
उंगलियां जल जाएगी।।

Upload By – Manish Sondhiya
6261815655


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें