क्या वह स्वभाव पहला सरकार अब नहीं है भजन लिरिक्स

क्या वह स्वभाव पहला,
सरकार अब नहीं है,
दीनों के वास्ते क्या,
दरबार अब नहीं है।।



या तो दयालु मेरी,

दृढ़ दीनता नहीं है,
या दीन कि तुम्हें ही,
दरकार अब नहीं है,
जिससे कि सुदामा,
त्रयलोक पा गया था,
क्या उस उदारता में,
कुछ सार अब नहीं है।
क्या वह स्वभाव पहलां,
सरकार अब नहीं है,
दीनों के वास्ते क्या,
दरबार अब नहीं है।।



पाते थे जिस ह्रदय का,

आश्रय अनाथ लाखों,
क्या वह हृदय दया का,
भण्डार अब नहीं है,
दौड़े थे द्वारिका से,
जिस पर अधीर होकर,
उस अश्रु ‘बिन्दु’ से भी,
क्या प्यार अब नहीं है।
क्या वह स्वभाव पहलां,
सरकार अब नहीं है,
दीनों के वास्ते क्या,
दरबार अब नहीं है।।



क्या वह स्वभाव पहला,

सरकार अब नहीं है,
दीनों के वास्ते क्या,
दरबार अब नहीं है।।

स्वर – धीरज कान्त जी।
रचना – श्री बिंदु जी महाराज।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

गोविंद की वाणी गीता महारानी महिमा संतों ने जानी

गोविंद की वाणी गीता महारानी महिमा संतों ने जानी

गोविंद की वाणी गीता महारानी, महिमा संतों ने जानी।। इस वाणी में अमृत धारा, श्री कृष्ण कहे यह बारंबारा, यह वाणी जगत कल्याणी रे प्राणी, महिमा संतों ने जानी। गोविन्द…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे