कहे नरहरि दिल्लीपत जहाँगीर सुणो गौ माता भजन

कहे नरहरि दिल्लीपत जहाँगीर सुणो गौ माता भजन

कहे नरहरि दिल्लीपत जहाँगीर सुणो,
कहे नरहरि दिल्लीपत जहाँगीर सुणो,
गाया आई है ले फरियाद,
बादशाह साचो न्याय करो,
गूँगी गाया रे नैणा माई नीर भयो,
गूँगी गाया रे नैणा माई नीर भयो,
किण कारण भारत मे काटी जाय,
ऐसो रे काई जुलम कियो,
किण कारण भारत मे काटी जाय,
ऐसो रे काई जुलम कियो।।



कर दे करोड़ गुनाह वाने माफी मिले,

कर दे करोड़ गुनाह वाने माफी मिले,
धर तिनको मुख गौ बण जाय,
दिल्लीपत ध्यान धरो,
धर तिनको मुख गौ बण जाय,
दिल्लीपत थोडो ध्यान धरो,
मै तो गौ हा साचोडी वन मे घास चरा,
मै तो गौ हा साचोडी वन में घास चरा,
बिन दोष क्यु मारी ए जाय,
बादशाह साचो न्याय करो,
बिन दोष क्यु मारी जाय,
बादशाह साचो न्याय करो।।



मै तो जाणा नहीं ओ किणी जात मे,

मै तो समझा नही ओ किणी कोम मे,
दूध दही घी करायो इमरत पान,
किणी ने नही जहर दियो,
दूध दही घी करायो इमरत पान,
किणी ने नही जहर दियो,
मारे सगला जणा है एक सार सदा,
मारे सगला मिनक है एक सार सदा,
मारो किणी सु नही है भेदभाव,
दिल्लीपत थोडो ध्यान धरो,
मारो किणी सु नहीं है भेदभाव,
दिल्लीपत थोडो ध्यान धरो।।



मर के गौ जो पेहरावे सब ने मोजडीया,

मर के गौ जो पेहरावे सब ने मोजडीया,
कंकर कांटा जहरी जीवा सु बचाय,
दयालु थोडो ध्यान धरो,
कंकर कांटा जहरी जीवा सु बचाय,
दयालु थोडो ध्यान धरो,
मरिया काम आवे है गौ रा हाडका,
मरिया काम आवे है गौ रा हाडका,
नहीं है गौ सु कोई नुकसान,
दिल्लीपत साचो न्याय करो,
नहीं है गौ सु कोई नुकसान,
दिल्लीपत साचो न्याय करो।।



कहे बादशाह लखावत नरहरि दास सुणो,

कहे जहाँगीर बारठ नरहरि दास सुणो,
आज सु करयो ऐलान हिन्दूस्तान,
गाया री कटनी बंद करी,
आज सु करयो ऐलान हिन्दूस्तान,
गौ वद बन्द करयो,
नमे नित करणीसुत नरहरि दास ने,
नमे नित करणीसुत नरहरि दास ने,
गौ वद बन्द करायो मुगल काल,
सोने रो इतीहास रच्यो,
गौ वद बन्द करायो मुगल काल,
सोने रो इतीहास रच्यो।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें