जग पालनहारा नाथ कृपा घनश्याम की लिरिक्स

जग पालनहारा,
नाथ कृपा घनश्याम की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।

तर्ज – हम कथा सुनाते राम सकल।



धोरा धरती मरूधर भूमि,

आवे देवता इन धरती पे,
अवतार लियो है,
द्वारकाधीश भगवान जी,
आ जन्म भूमि है,
रामाराज कंवार की,
जग पांलनहारा,
नाथ कृपा घनश्याम की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



अजमलजी री भगती जागी,

सूती सुरता भजन मे लागी,
नाथ द्वारका आंगन आया,
भाव समझ भगतो घर आया,
आय पालनीये प्रभु मुसकाया,
बालक रूप हरी विष्णु पधारीया,
रामदेव प्रभु नाम कहाया,
भगत ऊबारन पृथ्वी पे आया,
छायो घोर अंधारो,
दुखी घणा नर मानवी,
जग पांलनहारा,
नाथ कृपा घनश्याम की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



कुंकुम पगल्या आप मंडाया,

दूध उपनतो पल मे डबाया,
कपड़े रो घोडो आकाशा,
उडा दियो सब अचरज लाया,
जय जय कार हुई जब पासा,
भगत उचारे नाम कृपाला,
कर किरपा प्रभु भाग जगाया,
धोरां धरती आप पधारीया,
पडे परचा भारी,
किरत गूंजे श्याम की,
पडे परचा भारी,
किरत गूंजे श्याम की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



बिन्जारो बालद ले आयो,

मिसरी रो बाबो लून बनायो,
साच झूठ रो भेद बतायो,
पाप कपट मत राखो भायो,
चार दिना री मिली मिनखाई,
सत रे मारग हालो भाई,
साची बाता जग समझायी,
लोभ लालच मत राखो भाई,
सत्य राह बताई,
बोली वाणी ग्यान की,
सत्य राह बताई,
बोली वाणी ग्यान की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



भैरव मार रूनीचो धरप्यो,

जन जन रे मन ने जो बरप्यो,
पीर कटोरा आप मंगाया,
पीरो रा सब आप कहाया,
चौपड़ रमता भुजा पसारी,
डूबत नैया पार लगाई,
ऊंच नीच रो भेद मिटायो,
सब है बराबर धर्म बतायो,
नहीं छोटो कोई,
सब संताना राम की,
नहीं छोटो कोई,
सब संताना राम री,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



पग पग परचा आप दिराया,

सुगना बाई रा कष्ट मिटाया,
डाली भगती किनी भारी,
नाथ हरी सु लिगना लागी,
ले ये समाधि आप सिदाया,
धाम रूनीचो नाम दिराया,
किरत थारी सब जग जानी,
आवे घणा दुनिया सु नर नारी,
माली सेवक थारो,
काटो बेड्या पाप की,
माली सेवक थारो,
काटो बेड्या पाप की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।



जग पालनहारा,

नाथ कृपा घनश्याम की,
आ धरती है प्रभु,
भगत वत्सल भगवान की।।

स्वर – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

ठाकरी सी लागी थारी चाकरी या लागी जी भजन लिरिक्स

ठाकरी सी लागी थारी चाकरी या लागी जी भजन लिरिक्स

ठाकरी सी लागी थारी, चाकरी या लागी जी, बाबा थारी चाकरी भी, ठाकरी सी लागी जी, ठाकरी सी लागि थारी, चाकरी या लागी जी।। काम नहीं थो कोई म्हाने, मारो…

वारी रे रुणीजा रा राजा तारो पोकरणया में स्थान

वारी रे रुणीजा रा राजा तारो पोकरणया में स्थान

वारी रे रुणीजा रा राजा, तारो पोकरणया में स्थान, बाजरिया बाजा, थारा घोडा ने घुमा दे रे, मारा पीछम दिशा रा, बादशाह रे।। थारी माता मीणा दे जन्मा, बांजणी रे,…

बिन सत्संग होवे ना ज्ञाना भजन लिरिक्स

बिन सत्संग होवे ना ज्ञाना भजन लिरिक्स

बिन सत्संग होवे ना ज्ञाना, दोहा – निर्धन कहे धनवान सुखी, धनवान कहे सुख राजा को भारी, राजा कहे चक्रवर्ती सुखी, चक्रवर्ती कहे सुख इन्द्र अधिकारी, इन्द्र कहे ब्रह्मा सुखी,…

छोटी सी उमरिया में मीरा बाई ने हरी मिल्या जी लिरिक्स

छोटी सी उमरिया में मीरा बाई ने हरी मिल्या जी लिरिक्स

छोटी सी उमरिया में, मीरा बाई ने हरी मिल्या जी, आज मीरा ने मिल गयो, मिल गयो गाया रो ग्वाल।। साधा री संगत, मीरा बाई छोड़ दो जी, आज मेरतली…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “जग पालनहारा नाथ कृपा घनश्याम की लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे