जी भर नचा ले हमको तेरे दरबार में भजन लिरिक्स

जी भर नचा ले हमको,
तेरे दरबार में,
तेरे दरबार में,
दुनिया के आगे नाचूं,
वो दिन ना आये।।

तर्ज – सौ साल पहले।



हम तेरे हो जाएँ,

यही एहसान काफी है,
फिर जीवन में मेरे,
ना कुछ अरमान बाकी है,
किसी और की फिर हमको,
नहीं दरकार है,
नहीं दरकार है,
दुनिया के आगे नाचूं,
वो दिन ना आये।।



ये दुनिया वाले तो,

लाज के पीछे रहते हैं,
थोड़ी सी मदद करके,
ज़माने भर में कहते हैं,
दूर ही रखना हमको,
ऐसे संसार से,
ऐसे संसार से,
दुनिया के आगे नाचूं,
वो दिन ना आये।।



मेरी धड़कन तुम ही हो,

मेरा तो जीवन तुम ही हो,
बस इतना समझ लो श्याम,
मेरा तो सब कुछ तुम ही हो,
चौखट पे तेरी बाबा,
मेरा परिवार है,
मेरा परिवार है,
दुनिया के आगे नाचूं,
वो दिन ना आये।।



जी भर नचा ले हमको,
तेरे दरबार में,
तेरे दरबार में,
दुनिया के आगे नाचूं,
वो दिन ना आये।।

Singer – Reshmi Ji Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें