बीरा रे सरस्वती मात मनाऊं जांभोजी री महिमा गाऊ रे

बीरा रे सरस्वती मात मनाऊं,
जांभोजी री महिमा गाऊ रे,
गुरु चरणों में शीश नवाऊ,
गुरु विष्णु रूप में आया,
थाने माता हंसा दे हुलराया रे,
गुरु चरणों में शीश निवाऊ।।



गुरु लोहट जी घर आया,

हंसा दे मन हर्षाया जी,
गुरु करियोड़ा कवल निभायाजी,
गुरु चरणों शीश निवाऊ।।



गुरु रोटू नगरी आया,

उमा बाई रो भात भराया,
गुरु मनड़े खुशियां छाई रे,
गुरु चरणों शीश निवाऊ।।



गुरु बाजे जी घर आया,

गुरु लोथरा मर्द बनाया जी,
गुरु पल में दुखड़ा मिटाया,
गुरु चरणों शीश निवाऊ।।



गुरु सुभाष शर्मा गावे,

कोई मदन संग गावे ओ,
मीठो म्यूजिक बाजे रे,
गुरु चरणों शीश निवाऊ।।



बीरा रे सरस्वती मात मनाऊं,

जांभोजी री महिमा गाऊ रे,
गुरु चरणों में शीश नवाऊ,
गुरु विष्णु रूप में आया,
थाने माता हंसा दे हुलराया रे,
गुरु चरणों में शीश निवाऊ।।

प्रेषक – सुभाष सारस्वा काकड़ा
9024909170


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

क्रांतिवीर योद्धा बलजी भूरजी कथा तृतीय भाग

क्रांतिवीर योद्धा बलजी भूरजी कथा तृतीय भाग

क्रांतिवीर योद्धा बलजी भूरजी कथा तृतीय भाग, अरे सुता देख्या बल्ला भूरा ने, रात अंधेरी माय रे, मन में तो राजी होयगो कालू तो रे, मन में तो राजी होयगो…

आज सोने रो सूरज उगियो नखत कंवर घर आय लिरिक्स

आज सोने रो सूरज उगियो नखत कंवर घर आय लिरिक्स

आज सोने रो सूरज उगियो, दोहा – बाबो निरंजन आवीया, अलख जोगीसर आप, सोलंकी या ने वचन दियों, तों जोगी निरंजन आय। आज सोने रो सूरज उगियो, ऐ सैया म्हारी,…

साधो भाई सत्संग उत्तम गंगा देसी भजन लिरिक्स

साधो भाई सत्संग उत्तम गंगा देसी भजन लिरिक्स

साधो भाई सत्संग उत्तम गंगा, पाप ताप संताप मिटावे, झण्डा लहरावे तिरंगा।। सत्संग तो संता की कोर्ट, चले ज्ञान प्रसंगा, सतगुरु दाता वकील बन आवे, मिट जावे सब दंगा।। लख…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे