जांबा और जांगलु माही भरिया रे नाडिया भजन लिरिक्स

जांबा और जांगलु माही भरिया रे नाडिया,
मोतीड़ा चुगता हंसा ने निरखण चालो सा।।



मैं म्हारा साथीडा़ जावां ला जांगलु,

जाम्भोजी रे चोले रा दर्शन पांवाला।।



गांव जाम्बा माही जाम्भोजी रो मन्दिर,

संतो भक्तो रा आपा दर्शन पावाला।।



जिग मिग जिग मिग ज्योत जगे है,

जोती माही जाम्भोजी रा दर्शन पांवाला।।



भक्त राकेश थारी महिमा गावे,

थारी कृपा से थारा गुण गावे।।



जांबा और जांगलु माही भरिया रे नाडिया,

मोतीड़ा चुगता हंसा ने निरखण चालो सा।।

गायक / प्रेषक – राकेश लटियाल।
8003527393


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

चौसठ जोगणी रे भवानी देवलिये रमजाय भजन लिरिक्स

चौसठ जोगणी रे भवानी देवलिये रमजाय भजन लिरिक्स

चौसठ जोगणी रे भवानी, देवलिये रमजाय घूमर घालणि रे भवानी, देवलिये रमजाय।। श्लोक देवा में देवी बड़ी, और बड़ी जगदम्बे माय, लज्जा मोरी राखियो, कीजो म्हारी सहाय, कीजो म्हारी सहाय, शरण…

संतो प्रेम री बातो लागेे प्यारी रे भजन लिरिक्स

संतो प्रेम री बातो लागेे प्यारी रे भजन लिरिक्स

संतो प्रेम री बातो लागेे प्यारी रे, दोहा – सतसंगत आदी घडी, ओर आधी मे पुनि आध, तुलसी संगत संत री, कटे कोटी अपराध। संतो प्रेम री बातो लागेे प्यारी…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे