हम तो हर मावस आते तेरे अस्नान में भजन लिरिक्स

हम तो हर मावस आते तेरे अस्नान में भजन लिरिक्स

हम तो हर मावस आते,
तेरे अस्नान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।

तर्ज – तुम झोली भरलो भक्तो।



जब जब स्नान तुम्हारा आता,

खाटू धाम आ जाते-२.
श्याम स्नान का अमृत जल हम,
अपने घर को लाते-२,
इस जल को धारण करते,
जब पीड़ा होवे प्राण में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।



हर मावस और ग्रहण के अवसर,

होता स्नान तुम्हारा-२,
मंदिर प्रांगण में खड़े होकर,
देते हम जयकारा-२,
भजन सुनाए मिलकर सारे,
तेरे सम्मान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।



अटल स्नान है आपके बाबा,

सारा जग बतलाता-२,
इनको कोई बदल न सकता,
तुम ही तो हो विधाता-२,
झंडा लहराये तेरा,
सारे जहान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।



जन्म हुआ जब “राधेश्याम”का,

नहलावे दादी दाई-२,
शादी में अस्नान कराया,
फिर नहाया गंगा मांई-२,
अंतिम अस्नान हो जब,
तुम आना मेरे मकान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।



हम तो हर मावस आते,

तेरे अस्नान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में,
तुम भी आ जाना बाबा,
अंतिम प्रस्थान में।।

भजन रचयिता -राधेश्याम जी वत्स।
( नांगलोई दिल्ली) 9968876415


Video Not Avaialable

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें