घर में रागी घर में वैरागी प्रकाश माली भजन लिरिक्स

घर में रागी घर में वैरागी,
घर घर गावन वाला ओ,
कलयुग री आ छाया पड़ी है
कुन नुगरोने वर्जन वाला ओ जी।।



गुरु मुख ग्यानी जगत में थोड़ा,

मन मुख मुंड कियोड़ा रे,
ग्यान गत री मत नही जाने,
ऐ लंबे बालों वाला ओ जी,
घर में रागी घर में वैरागि,
घर घर गावन वाला ओ।।



बाल राख ने मोड़ा चाले,

अरे पंच केश नही ध्याता है,
पांच तत्व री सार नही जाने,
नित निम् न्हावन वाला है ओ जी,
घर में रागी घर में वैरागि,
घर घर गावन वाला ओ।।



नावे धोवे तिलक लगावे,

अरे मंदिर जावन वाला ओ,
निज मन्दिर री खबर नही जाने,
गले जनोइरी माला है ओ जी,
घर में रागी घर में वैरागि,
घर घर गावन वाला ओ।।



अरे वेश पेर भगवान् रिजावे,

घरे जोगियो रा वाना ओ,
नेती धोती री सार नही जाने,
पर बैठा पुरुष दीवाना है ओ जी
घर में रागी घर में वैरागि,
घर घर गावन वाला ओ।।



भुरनाथ अडवन्का जोगी,

सिद का जल वसवाला है,
गुरु कानजी सिमरत मिलिया,
अब फेरुस थोरी माला है ओ जी,
घर में रागी घर में वैरागि,
घर घर गावन वाला ओ।।



घर में रागी घर में वैरागी,

घर घर गावन वाला ओ,
कलयुग री आ छाया पड़ी है
कुन नुगरोने वर्जन वाला ओ जी।।

स्वर – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – श्रवण सिंह राजपुरोहित।
+91 90965 58244


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

जन्माष्टमी भजन लिरिक्स, मित्रों, सर्वप्रथम आप सभी को भजन डायरी टीम की ओर से, जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाए। भगवान श्री कृष्ण की कृपा हम आप पर बनी रहे। इस पोस्ट…

लिख दो म्हारे रोम रोम में राम राम हो रमापति भजन लिरिक्स

लिख दो म्हारे रोम रोम में राम राम हो रमापति भजन लिरिक्स

लिख दो म्हारे रोम रोम में, राम राम हो रमापति। दोहा – संत हमारी आत्मा और, मै संतन की देह, रोम रोम में रम रया, प्रभु ज्यु बादल बिच महेश।…

माजीसा री मैं तो करूँ सेवना राजस्थानी भजन लिरिक्स

माजीसा री मैं तो करूँ सेवना राजस्थानी भजन लिरिक्स

माजीसा री मैं तो करूँ सेवना, माजीसा री मै तो करूँ सेवना, रानी भटियाणी सा ने हेलो, रानी भटियाणी ने हेलो, मै तो चरना मे ज्योति जगावु, मै तो नितरा…

म्हारा मन सतगुरु दरश दिखावे भजन लिरिक्स

म्हारा मन सतगुरु दरश दिखावे भजन लिरिक्स

प्राण पड़े म्हारी काया धुजे, नैना मे नींद नही आवे रे, म्हारा मन सतगुरु दरश दिखावे, म्हारा मन सतगुरु दर्श दिखावे।। खान पान म्हाने फिका लागे, जीवडो म्हारो कुलमावे, खान…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे