गाती थी मीरा प्रभु के गुणगान चाहे बदल जाए सारा जहान

गाती थी मीरा प्रभु के गुणगान,
चाहे बदल जाए सारा जहान,
बडी मस्तानी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।

तर्ज – आने से उसके।



राणा जी कैवे है,

मीरा राज महल नाही आवे,
राणाजी से कहदो,
मुझे आकर के यूँ ना सतावे,
राणाजी, मानोजी,
मेरे गिरधारी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।



राणा ने विष का प्याला,

मीरा मारण को भैजा,
पी गई वो मीरा,
निकला ना कुछ नतीजा,
नाचुगी गाऊगी,
मेरे गिरधारी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।



नाग मंगवाया काला,

मीरा बाई के गले में डाला,
कृष्ण की दीवानी,
वो तो बन गई फूलो की माला,
जल्दी आ लाज बचा,
आफत भारी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।



मित्र मण्डल कहता है,

मीरा बाई थी कृष्ण दीवानी,
दरश बिना ओ कान्हा,
मित्र मण्डल की अखिया प्यासी,
दरश दिखा मत तरसा,
विनति हमारी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।



गाती थी मीरा प्रभु के गुणगान,

चाहे बदल जाए सारा जहान,
बडी मस्तानी है मीरा मैडती,
कृष्ण दिवानी है मीरा मैडती।।

गायक / प्रेषक – प्रवीण व्यास।
लकडवास (उदयपुर)
8890970310


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें