दही खालो मटकिया ने फोड़ो भजन लिरिक्स

दही खालो मटकिया ने फोड़ो,
दही खालो मटकिया ने फोडो।।



मैं बाबुल की भारी लाडली,

मै बाबुल की भारी लाडली,
मोरे नैनो से नैना ने जोडो,
दही खालो मटकिया ने फोडो।।



झीठा झपटी काहे करत हो,

झीठा झपटी काहे करत हो,
मोरी बाहिया पकड़ ने झन्ग झोरो,
दही खालो मटकिया ने फोडो।।



बिगड़ी चाले तुम्हारी मनमोहन,

बिगड़ी चाले तम्हारी मनमोहन,
मोरो हार गले को ने तोडो,
दही खालो मटकिया ने फोडो।।



पार्थ राघव वडे है दयालु,

पार्थ राघव वडे है दयालु,
कन्हैया के चरणो मै चित जोडो,
दही खालो मटकिया ने फोडो।।



दही खालो मटकिया ने फोड़ो,

दही खालो मटकिया ने फोडो।।

गायक / प्रेषक – नीलेश कुमार राज़़।
9691983029


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें