प्रथम पेज कृष्ण भजन तेरी रहमत के सदके है बन्दे तेरे क्या से क्या हो गए...

तेरी रहमत के सदके है बन्दे तेरे क्या से क्या हो गए देखते देखते

तेरी रहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।

दोहा – नजर ना नजर से मिलाने के काबिल,
ना सर तेरे आगे झुकाने के काबिल,
मुझे खेंच लाई ये निस्वत तुम्हारी,
कहाँ था तेरे दर पे आने के काबिल।

तेरी रहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते,
कल जिनके मुकद्दर में कुछ भी ना था,
बादशाह हो गए देखते देखते,
तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।।



तेरी रहमो करम जिस सर पे पड़ी,

वे सर ना झुके फिर कही पर कभी,
तेरे दरबार की जिसने तोहिन की,
वो फ़ना हो गए देखते देखते,
तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।।



जर्रे जर्रे में तुमको है खोजा मगर,

तुमको ढूंढा मगर तुम भरम ही रहे,
तेरे दर का पता खोजते खोजते,
खोजने वाले खुद लापता हो गए,
तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।।



कैसे कह दूँ दुआ बेअसर हो गई,

मैं जो रोया तो तुमको खबर हो गई,
तुमने सर पे रखा हाथ जो प्यार से,
जिंदगी बन गई देखते देखते,
तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।।



तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,

क्या से क्या हो गए देखते देखते,
कल जिनके मुकद्दर में कुछ भी ना था,
बादशाह हो गए देखते देखते,
तेरी रेहमत के सदके है बन्दे तेरे,
क्या से क्या हो गए देखते देखते।।

Singer – Dheeraj Bawra Ji


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।