छोटी सी थाकि चटी आंगली कईया गिरवर ने उठायो जी

छोटी सी थाकि चटी आंगली,

दोहा – मैं गरजी अर्जी करू,
थे सुणजो दीनानाथ,
आप बिना किसको कहूं,
मैं अंतकरण की बात।



छोटी सी थाकि चटी आंगली,

कईया गिरवर ने उठायो जी,
वा रे सांवरा,
कईया पर्वत ने उठायो जी,
ओ रे सांवरा।।



अजब निराली थारी माया,

जादू से भी ऊपर,
निज भगता रेे कारण आवो,
गव लोक पे उतर,
सुण जो बलदाऊ के भैया,
जल में डूबी जीवन नैया,
थे विका बण खेवईया,
लौहा रो मजबूत खम्भो,
फाड़ कर कईया नरसिंग रूप,
बणायो जी ओ रे सांवरा।।



एक दिन कौरव दुराचारी,

खोठी नियत विचारी,
पकड़ कर लाये द्रोपती नारी,
उने करबू छावे उगाड़ी,
अस्यो काही कामण थाने,
याद थो जी डूंगर साड़ी को,
बणायो जी वारे सांवरा।।



नानी बाई को भरयौ मायरो,

मीरा को जहर बचायो,
कर्मा के घर आकर प्रभुजी,
बास्यो खीचड़ खायो,
कबीरा के घर बालद लायो,
नाम दवरो छपरो छायो,
डूबती नैया मारी तार ज्यो जी,
थाने धन्नो भगत,
बुलावे जी वारे सांवरा।।



छोटी सी थाकी चटी आंगली,

कईया गिरवर ने उठायो जी,
वा रे सांवरा,
कईया पर्वत ने उठायो जी,
ओ रे सांवरा।।

गायक – किशन सोनगर।
प्रेषक – विनु सोनगर।
7023805071


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

खम्मा खम्मा रे म्हारा रुणीचे रा धणिया भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा रे म्हारा रुणीचे रा धणिया भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा रे म्हारा, रुणीचे रा धणिया, भादुड़े रो मैलो दिखाय दीजै, म्हाने भी रुणीचे बुलाय लीजै।। तर्ज – उड़ उड़ रे म्हारा। धोरां माहीं रुणीचो धाम बसायो, पग पग…

श्री सालासर बालाजी री कथा द्वितीय भाग

श्री सालासर बालाजी री कथा द्वितीय भाग

श्री सालासर बालाजी री कथा द्वितीय भाग, श्री सालासर बालाजी री कथा द्वितीय भाग, अरे बहन म्हारी राखो थारे मनडा मे विश्वास, कानीबाई राखो थारे मनडा मे विश्वास, भक्ति करो…

गुरु मिलिया आत्म राम प्रकाश माली भजन लिरिक्स

गुरु मिलिया आत्म राम प्रकाश माली भजन लिरिक्स

गुरु मिलिया आत्म राम, श्लोक – सतगुरु ऐसा कीजिए, दुखे दुखावे नाही, अरे पान फूल तोड़े नाही, वे रेवे बगीचा माये।। म्हारा गुरूजी ऐसा, फूल गुलाबी जैसा ओ, म्हारे घर…

भूलूँ नाही एक घड़ी मैं सांवरिया थाने भूलू नाही एक घड़ी

भूलूँ नाही एक घड़ी मैं सांवरिया थाने भूलू नाही एक घड़ी

भूलूँ नाही एक घड़ी, मैं सांवरिया थाने। दोहा – जगत जननी माँ शारदे, मुझ दिन पर दृष्टि धरो, विद्या खजाना खोल के, मैया कंठ के भीतर धरो। भूलूँ नाही एक…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

2 thoughts on “छोटी सी थाकि चटी आंगली कईया गिरवर ने उठायो जी”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे