गुरु गम का सागर तमने लाख लाख वंदन लिरिक्स

गुरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन,
ऐ लाख लाख वंदन तमने,
कोटि कोटि वंदन,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।



अज्ञान जीवडो गुरु जी,

चरणों में आयो,
ज्ञान को दीपक गुरुजी,
जलाई दीजो़,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।



लख हो चौरसी में जिवड़ो,

भटकि रे आयो,
अबकी चौरासी गुरुजी,
छुड़ाई हो दी जो,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।



डूबते डूबते हो गुरु जी,

आपने बचाया,
अब को जीवन हो गुरुजी,
सवारी हो दिजो,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।



इना हो सेवक की गुरुजी,

अरज गुसाईं,
आवागमन का बंधन,
छुड़ाई हो दिजो,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।



गुरु गम का सागर,

तमने लाख लाख वंदन,
ऐ लाख लाख वंदन तमने,
कोटि कोटि वंदन,
गुंरु गम का सागर,
तमने लाख लाख वंदन।।

गायक – प्रहलाद सिंह जी टिपानिया।
प्रेषक – राधेश्याम खांट
8120141128


https://youtu.be/95S1tTf9VZk

इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

फूलों सा म्हारा प्यारा बालाजी थाने दुनिया मनावे जी

फूलों सा म्हारा प्यारा बालाजी थाने दुनिया मनावे जी

फूलों सा म्हारा प्यारा बालाजी, थाने दुनिया मनावे जी, थारा ही गुण गावे बालाजी, थाने रोज मनावे जी, फूलो सा म्हारा प्यारा बालाजी हो।। सालासर थारो मन्दिर प्यारो, मेहंदीपुर मन…

राम न भज्या सु रामजी रिझेला दुनिया रिझेली मीठी बता सूं

राम न भज्या सु रामजी रिझेला दुनिया रिझेली मीठी बता सूं

राम न भज्या सु रामजी रिझेला, आ दुनिया रिझेली मीठी बता सूं, भरम गांठ को जवेलो, थान घर घर घर डोळ्या सूं।। सुनो रे सज्जनो ई कलीयुग माही, बाढ़ ही…

म्हारा हँसला रे दिया गुरुजी हेला गुरु वाणी भजन लीरिक्स

म्हारा हँसला रे दिया गुरुजी हेला गुरु वाणी भजन लीरिक्स

म्हारा हँसला रे, दिया गुरुजी हेला। दोहा – सन्त मिलन को चालिए, तज माया अभिमान, ज्यूँ ज्यूँ पैर धरे धरणी पे, ज्यूँ ज्यूँ यज्ञ समान। सन्त मिल्या इतना टळे, काळ…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे