सुणजो रे संसारी लोगा ऐडो जमानो आवेला भजन लिरिक्स

सुणजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला,
राजाराम कहे मेरे भाया,
धर्म कर्म हट जावेला,
राजाराम कहे मेरे भाया,
धर्म कर्म हट जावेला।।



एक सेर रो धान बिकेला,

पानी टोंक तुलावेला,
एक सेर रो धान बिकेला,
पानी टोंक तुलावेला,
भूमि बीज उपदेसी ज्यादा,
इन्द्र न बरसावेला,
भूमि बीज उपदेसी ज्यादा,
इन्द्र न बरसावेला,
मानको बढ़ जासी ज्यादा,
धान हाथ नही आवेला,
मानको बढ़ जासी ज्यादा,
धान हाथ नही आवेला,
एक रोटी रे कारण लडकर,
अपनो प्राण गमावेला,
एक रोटी रे कारण लडकर,
अपनो प्राण गमावेला,
सुणजो रे संसारी भाया,
ऐडो जमानो आवेला।।



धर्म पुण्य मे ध्यान न धरसी,

पाप घणो बढ़ जावेला,
धर्म पुण्य मे ध्यान न धरसी,
पाप घणो बढ़ जावेला,
देवा ने पूजे नही पापी,
गोविन्द ने नहीं गावेला,
देवा ने पूजे नही पापी,
गोविन्द ने नहीं गावेला,
गंगा गया पाप घणो लागे,
पापीडा यु केवेला,
गंगा गया पाप घणो लागे,
पापीडा यु केवेला,
दया किया सु दर्द ऊपजे,
दान किया दुख पावेला,
दया किया सु दर्द ऊपजे,
दान किया दुख पावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



पंडित ने पूछे नही कोई,

गुरखा वेद सुनावेला,
पंडित ने पूछे नही कोई,
गुरखा वेद सुनावेला,
चेलकीया गादी पर बैठा,
गुरू ने ज्ञान सुनावेला,
चेलकीया गादी पर बैठा,
गुरू ने ज्ञान सुनावेला,
राजा ए राज तज देसी,
जागीरी सब जावेला,
राजा ए राज तज देसी,
जागीरी सब जावेला,
पूंजीपति ए एक पलक मे,
निर्धनीया हो जावेला,
पूंजीपति ए एक पलक मे,
निर्धनीया हो जावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



छत्रपति ए खेती करसी,

करसा आसन लेवेला,
छत्रपति ए खेती करसी,
करसा आसन लेवेला,
ठाकर कंवर भोमिया भाई,
बडिया बन कर जावेला,
ठाकर कंवर भोमिया भाई,
बडिया बन कर जावेला,
प्रेम भाव आपस में प्यारे,
एक नही ए रेवेला,
प्रेम भाव आपस में प्यारे,
एक नही ए रेवेला,
आ है थारी आ है म्हारी,
यु करता मर जावेला,
आ है थारी आ है म्हारी,
यु करता मर जावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



भाई ने भाई नहीं जाणे,

दुश्मन ज्यु ए देखेला,
भाई ने भाई नही जाणे,
दुश्मन ज्यु ए देखेला,
सासरिया रा कोड घनेरा,
करता ही नही थाकेला,
सासरिया रा कोड घनेरा,
करता ही नहीं थाकेला,
सासरिया ने सीरो लापसी,
पुरडी खीर रंदावेला,
सासरिया ने सीरो लापसी,
पुरडी खीर रंदावेला,
काका भाबा मात पिता ने,
जूता सु जीमावेला,
काका भाबा मात पिता ने,
जूता सु जीमावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



बेटो बाप रो कयो नी माने,

अकड़ तनो अकडावेला,
बेटो बाप रो कयो नी माने,
अकड़ तनो अकडावेला,
बूढिया मे अकल नही है,
पागल ज्यु बतलावेला,
बूढिया मे अकल नही है,
पागल ज्यु बतलावेला,
नेम धर्म कर्म तज देसी,
सब दिन टका कमावेला,
नेम धर्म कर्म तज देसी,
सब दिन पैसा कमावेला,
ईश्वर ने ईश्वर नही जाणे,
आप ब्रह्म बन जावेला,
ईश्वर ने ईश्वर नही जाणे,
आप ब्रह्म बन जावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



टाबरिया रोटी रे कारण,

सब दिन शोर मचावेला,
टाबरिया रोटी रे कारण,
सब दिन शोर मचावेला,
भूखा मरता फिरे भटकता,
धान हाथ नही आवेला,
भूखा मरता फिरे भटकता,
धान हाथ नही आवेला,
महामारी ओर हेजो बढ़सी,
हाहाकार मचावेला,
महामारी ओर हेजो बढ़सी,
हाहाकार मचावेला,
काली माता चक्र चलावे,
भेरू डमरू बजावेला,
काली माता चक्र चलावे,
भेरू डमरू बजावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



समंदा पार विदेशी एतो,

आपस में लड जावेला,
समंदा पार विदेशी एतो,
आपस में लड जावेला,
धुआधार ओर घोर मचेला,
लाखा ही मर जावेला,
धुआधार ओर घोर मचेला,
लाखा ही मर जावेला,
स्त्रियाँ घेणो तज देसी,
दो दो चूडी पेरेला,
स्त्रियाँ घेणो तज देसी,
दो दो चूडी पेरेला,
सुहाग भाग सब छोड़ ए बहना,
केसा ने सुलझावेला,
सुहाग भाग सब छोड़ ए बहना,
केस ने सुलझावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



रसोई सासु बन लासी,

नन्दल थाल परोसेला,
रसोई सासु बन लासी,
नन्दल थाल जीमावेला,
ढोलीये बैठोडी बनडी,
आँखीया सु डरावेला,
ढोलीये बैठोडी बनडी,
आँखीया सु डरावेला,
जेठजी बलीतो लासी,
देवर पानी लावेला,
जेठजी बलीतो लासी,
देवर पानी लावेला,
सुसरोजी ए कपडा सुखासी,
बनडो पाँव दबावेला,
सुसरोजी ए कपडा सुखासी,
बनडो पाँव दबावेला,
सुनजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



जात पात री रित न रेसी,

सब एक बन जावेला,
जात पात री रीत न रेसी,
सब एक बन जावेला,
छोटा मोटा साथ जीमेला,
ऊंच नीच नही जाणेला,
छोटा मोटा साथ जीमेला,
ऊंच नीच नही जाणेला,
राजाराम जी कहे मेरे बंधू,
धर्म कर्म हट जावेला,
राजाराम जी कहे मेरे भाया,
धर्म कर्म हट जावेला,
कुदरत एसी आय बनेला,
सब एक हो जावेला,
कुदरत एसी आय बनेला,
सब एक हो जावेला,
सुणजो रे संसारी लोगा,
ऐडो जमानो आवेला।।



सुणजो रे संसारी लोगा,

ऐडो जमानो आवेला,
राजाराम कहे मेरे भाया,
धर्म कर्म हट जावेला,
राजाराम कहे मेरे भाया,
धर्म कर्म हट जावेला।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें