योगी शांतिनाथ जी ने बार बार वंदना भजन लिरिक्स

योगी शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना,
बार बार वंदना,
हजार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।



गाँव भागली में जन्म है पायो,

गाँव भागली मे जन्म है पायो,
शिव री भक्ति मे गुरूवर मनडो रमायो,
शिव री भक्ति मे गुरूवर मनडो रमायो,
साचा शिव भक्त ने है,
बार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।



जालंधर नाथ बीच माई गुरू उपकारी,

जालंधर नाथ बीच गुरू उपकारी,
श्रद्धा सु पूजे ज्याने सब नर नारी,
श्रद्धा सु पूजे ज्याने सब नर नारी,
भगवा इन वेश नेे है,
बार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।



जो भी शरण में भक्ति भाव सु आवे,

जो भी शरण में भक्ति भाव सु आवे,
पल में गुरूजी उनरा दुखडा मिटावे,
पल में गुरूजी उनरा दुखडा मिटावे,
एडा दीना नाथ ने है,
बार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।



दास अशोक ज्यारी महिमा सुनावे,

दास अशोक ज्यारी महिमा सुनावे,
सतगुरु दयालु भव सु पार लगावे,
सतगुरु दयालु भव सु पार लगावे,
नैया केवट हार ने है,
बार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।



योगी शांतिनाथ जी ने,

बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना,
बार बार वंदना,
हजार बार वंदना,
गुरू शांतिनाथ जी ने,
बार बार वंदना,
म्हारा गुरूदेव जी ने,
बार बार वंदना।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

दिव्य धरा यह भारती छलक रहा आनंद लिरिक्स

दिव्य धरा यह भारती छलक रहा आनंद लिरिक्स

दिव्य धरा यह भारती, छलक रहा आनंद, नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध, उतारे आरती जय माँ भारती, उतारे आरती जय माँ भारती।। युग युग से अनगिन धाराएँ, सेवा में…

मैं तो गुरूवर रा गुण गाऊँ म्हारी माँ म्हारो मन लाग्यो भगती में

मैं तो गुरूवर रा गुण गाऊँ म्हारी माँ म्हारो मन लाग्यो भगती में

मैं तो गुरूवर रा गुण गाऊँ म्हारी माँ, दोहा – गौ गंगा और गायत्री से, ऊपर गुरू रो नाम, गुरू ही मार्ग सुझावीयो, जिन पूजे खुद राम। मैं तो गुरूवर…

इस पापी युग में कोई नहीं गौमाता का रखवाला भजन लिरिक्स

इस पापी युग में कोई नहीं गौमाता का रखवाला भजन लिरिक्स

इस पापी युग में कोई नहीं, गौमाता का रखवाला, हे गोविंदा गोपाला, हे गोविंदा गोपाला।। तर्ज – जहाँ डाल डाल पर। जो सबको दूध पिलाती, उसका ही खून बहाया, गौ…

थाने सिमरा मैं बारमबार जगदम्बा म्हारी अरज सुनो लिरिक्स

थाने सिमरा मैं बारमबार जगदम्बा म्हारी अरज सुनो लिरिक्स

थाने सिमरा मैं बारमबार, जगदम्बा म्हारी अरज सुनो, ओ अरज सुनो ए मैया विनती सुनो, ओ थाने विनती करूं बारंबार, जगदंबा मारी अरज सुनो।। बीकाजी ने वचन दीनो माँ, गड…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे