प्रथम पेज फिल्मी तर्ज भजन चीर दिया सीना सियाराम नजर आए भजन लिरिक्स

चीर दिया सीना सियाराम नजर आए भजन लिरिक्स

भक्ति के रंग में रंगे,
हनुमान नज़र आये,
चीर दिया सीना,
सियाराम नजर आए,
भक्ति के रंग मे रंगे,
हनुमान नज़र आये।।

तर्ज – आये हो मेरी जिंदगी में।



सुग्रीव के संग वन में,

हनुमान जी मिले थे,
मित्रता के फूल मन मे,
यही से ही खिले थे,
बने पक्के यार दोनों,
दुनिया मे अमर पाए,
चिर दिया सीना,
सियाराम नजर आए,
भक्ति के रंग मे रंगे,
हनुमान नज़र आये।।



लक्ष्मण को लगी शक्ति,

श्री राम जी घबराए,
और जा वेद सुषेण को,
लंका से उठा लाए,
वो पहाड़ उठा लाये,
महावीर यूँ कहलाये,
चिर दिया सीना,
सियाराम नजर आए,
भक्ति के रंग मे रंगे,
हनुमान नज़र आये।।



एक दिन माता सीता,

श्रृंगार कर रही थी,
मांग में वो अपने,
सिंदूर भर रही थी,
ये देख कर के हनुमत,
सिंदूर में नहाए,
चिर दिया सीना,
सियाराम नजर आए,
भक्ति के रंग मे रंगे,
हनुमान नज़र आये।।



भक्ति के रंग में रंगे,

हनुमान नज़र आये,
चीर दिया सीना,
सियाराम नजर आए,
भक्ति के रंग मे रंगे,
हनुमान नज़र आये।।

गायक – मनोहर जी राव।
प्रेषक – हिमांशु चावड़ा।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।