भगता रो बेडो भव जल में किनरे भरोसे रामदेवजी भजन

भगता रो बेडो भव जल में,
भगता रो बेडो भव जल मे,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



दर्शन करवा अजमल आया,

नगर द्वारिका धाम,
दर्शन करवा अजमल आया,
नगर द्वारिका धाम,
पुजारी मार्ग बतलायो,
सागर में घनश्याम,
पुजारी मार्ग बतलायो,
सागर में घनश्याम,
कूद पड्या समंदर में अजमल,
कूद पड्या समंदर में अजमल,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ पीरजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



पिछम धरा मे राकस भारी,

भैरव जिनरो नाम,
पिछम धरा मे राकस भारी,
भैरव जिनरो नाम,
मिनख मारने खावे वैरी,
आवे ढलती शाम,
मिनख मारने खावे वैरी,
आवे ढलती शाम,
बाली नाथ जी करता तपस्या,
बाली नाथ जी करता तपस्या,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ पीरजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



डाली बाई भगत आपरी,

पायो थासु ग्यान,
डाली बाई भगत आपरी,
पायो थासु ग्यान,
आप समाधि लेता आटी,
डोरा निकल्या माय,
आप समाधि लेता आटी,
डोरा निकल्या माय,
डाली बाई लीनी समाधि,
डाली बाई लीनी समाधि,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ पीरजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



गाँव रूनीचा धाम आपरो,

साचो है दरबार,
गाँव रूनीचा धाम आपरो,
साचो है दरबार,
आस हिया मे लेकर आवे,
दर्शन ने नर नार,
आस हिया मे लेकर आवे,
दर्शन ने नर नार,
दूर दूर सु पैदल आवे,
दूर दूर सु पैदल आवे,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ पीरजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



मैणादे रा लाल आपने,

दास अशोक सुनाय,
मैणादे रा लाल आपने,
दास अशोक सुनाय,
भादरवा री बीज बापजी,
दीजो दर्श दिखाय,
भादरवा री बीज बापजी,
दीजो दर्श दिखाय,
डगमग डोले नाव भंवर मे,
डगमग डोले नाव भंवर मे,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ पीरजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।



भगता रो बेडो भव जल में,

भगता रो बेडो भव जल मे,
किनरे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ,
थारे भरोसे ओ बापजी,
थारे भरोसे ओ।।

गायक – कीर्ति जोशी मोईनुद्दीन जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें