नव सौ तांगा ने नव सौ बैल मीराबाई भजन लिरिक्स

नव सौ तांगा ने नव सौ बैल छोरीया,

दोहा – भक्त बीज पलटे नही,
ओर जो जुग जाये अनंत,
ऊंच नीच घर अवतरे,
वो रहे संत रो संत।

नव सौ तांगा ने नव सौ बैल छोरीया,
नव सौ तांगा ने नव सौ बैल,
घर घर मे घोडा किनरा बांधीया ओ जी,
अरे घर घर में घोडा किनरा बांधीया ओ जी,
राणा रा तांगा कहिजे बैल मीरा,
राणा रा तांगा कहिजे बैल,
घर घर में घोडा वे ही बांधीया ओ जी।।



रमे खेले ने घर आवो मीरा,

रमे खेले ने घर आव,
राणोजी आया है थाने लेवन ने ओ जी,
राणोजी आया है थाने लेवन ने ओ जी,
कुन तो राणो है कुन है राम जुग में,
कुन तो राणो है कुन है राम,
किनरे राजा रे कहिजे डिकरा ओ जी,
अरे किनरे राजा रा कहिजे डिकरा ओ जी।।



हंसने मुलके ने मीठी बोल मीरा,

हंसने मुलके ने मीठी बोल,
ओची उमर मे थोडो जीवनो ओ जी,
अरे ओची उमर मे थोडो जीवनो ओ जी,
जोगन हो जावु जग रे माय राणा,
जोगन हो जावु जग रे माय,
गूंथी लावु रे हरि रे सेवरा ओ जी,
अरे गूंथी लावु रे हरि रा सेवरा ओ जी।।



बांधो गले रे नवसर हार मीरा,

बांधो गले रे नवसर हार,
चुडलो पेरो थे हस्ती दात रा ओ जी,
अरे चुडलो पेरो थे हस्ती दात रा ओ जी,
चुडला थारी रानी ने पेराव राणा,
चुडला थारी रानी ने पेराव,
मीरा पेरेला हरि रा लुम्बडा ओ जी,
अरे मीरा पेरेला हरि रा लुम्बडा ओ जी,
तटके तोडू रे नवसर हार राणा,
तटके तोडू रे नवसर हार,
गढ री पिता सु बांधु चुडला ओ जी,
गढ री पिता सु बांधु चुडला ओ जी।।



रविदास दिना है उपदेश राणा,

रविदास दिना है उपदेश,
साधु दिया है हरि रा लुम्बडा ओ जी,
अरे साधु दिया है हरि रा लुम्बडा ओ जी,
ओची जमारा वाली जात मीरा,
ओची जमारा वाली जात,
मुआ ढोरो रा काटे चामडा ओ जी,
अरे मुआ ढोरो रा काटे चामडा ओ जी।।



रविदास कहिजे मायर बाप राणा,

रविदास कहिजे मायर बाप,
मेतो संतो रे पग री मोजडी ओ जी,
अरे मेतो संतो रे पग री मोजडी ओ जी,
गावे गावे मीरा बाई आप भाईडा,
गावे गावे मीरा बाई आप,
गुरू रविदास जाने भेटिया ओ जी,
अरे गुरू रविदास जाने भेटिया ओ जी।।



नव सौ ताँगा ने नव सौ बैल छोरीया,

नव सौ ताँगा ने नव सौ बैल,
घर घर मे घोडा किनरा बांधीया ओ जी,
अरे घर घर में घोडा किनरा बांधीया ओ जी,
राणा रा तांगा कहिजे बैल मीरा,
राणा रा तांगा कहिजे बैल,
घर घर में घोडा वे ही बांधीया ओ जी।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

माता भादवा दरसण देवे थाने दरसण चालो रे लिरिक्स

माता भादवा दरसण देवे थाने दरसण चालो रे लिरिक्स

दरसण चालो रे भाईडा, दरसण चालो रे, माता भादवा दरसण देवे, थाने दरसण चालो रे।। सुन्दर थारो मंदिर बनियो, सोभा लागे प्यारी, दूर दूर सु दरशन करवा आवे, नर और…

देखो देखो भेरू भगता ने आया है दर्शन करवा ने

देखो देखो भेरू भगता ने आया है दर्शन करवा ने

देखो देखो भेरू भगता ने, आया है दर्शन करवा ने। दोहा – भेरू भटकाला खेलीया, ओर नगर सोनाला माय, जो कोई खेतलाजी ने सिवरसी, भेरू बेडा करसी पार। देखो देखो…

बालासा म्हारा कीर्तन में आवो जी भजन लिरिक्स

बालासा म्हारा कीर्तन में आवो जी भजन लिरिक्स

बालासा म्हारा कीर्तन में आवो जी, एक बार थे आजावो, म्हे ढोक लगावा जी।। म्हे मनमा थारी, ज्योत जगावा जी, भक्ति और शक्ति द्यो, नही पल बिसरावा जी, बालासा म्हारा…

खेतारामजी रो मुकुंद घोड़ो घुंघरिया घमकावे

खेतारामजी रो मुकुंद घोड़ो घुंघरिया घमकावे

खेतारामजी रो मुकुंद घोड़ो, श्लोक:- मुकुंद घोड़ो नवलखो, और मोतिया जड़ी रे लगाम, जीन पर विराजे खेतारामजी, तो सारे भक्ता रा काज। खेतारामजी रो मुकुंद घोड़ो, घुंघरिया घमकावे, दानो देवन…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे