प्रथम पेज नागर जी भजन बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ या चुनर सतगुरु की

बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ या चुनर सतगुरु की

बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ,
या चुनर सतगुरु की।।



चुनर ओढ़ूँ तो कुटुंब लजाए,

चुनर ओढ़ूँ तो कुटुंब लजाए,
नहीं तो ओढ़ूँ तो मन ललचाए,
या चुनर सतगुरु की,
बीके माथा साटे ओ म्हारी माँ,
या चुनर सतगुरु की।।



चुनर छोडूं तो सतगुरु लाजे,

चुनर छोडूं तो सतगुरु लाजे,
म्हारो मनक जमारो भी लजाए,
या चुनर सतगुरु की,
बीके माथा साटे ओ म्हारी माँ,
या चुनर सतगुरु की।।



चुनर ओढूँ ने पियर छोड़ूं,

चुनर ओढूँ ने पियर छोड़ूं,
म्हारा सासरिया रो सिंगार,
या चुनर सतगुरु की,
बीके माथा साटे ओ म्हारी माँ,
या चुनर सतगुरु की।।



बिके माथा साटे ओ म्हारी माँ,

या चुनर सतगुरु की।।

स्वर – संत श्री कमल किशोर जी नागर।


 

कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।