अलगी घणी परनाई ओ बीरा रे ली नहीं साल संभाल लिरिक्स

अलगी घणी परनाई ओ बीरा रे ली नहीं साल संभाल लिरिक्स

अलगी घणी परनाई ओ बीरा रे,

दोहा – बीरा मारा रामदेव,
रानी मेतल रा भरतार,
एकर लेवन आवजो,
थारी बहन करे पुकार।

अलगी घणी परनाई ओ बीरा रे,
ली नहीं साल संभाल,
जीव अमुजे माने ओलू आवे,
जीव अमुजे माने ओलू आवे,
अठे पड रियो क़ाल पर काल,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।



बेटी ने दोनों ज्यू रेवे बीरा,

बूढ़ा मायड़ बाप,
अलगो लीगन लिख्यो जोशी जी,
थाने खायो कोणी कालो नाग,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।



सासू जितरे सासरो रे बीरा,

माता जीतरे पिर,
जद भोजाया घर आवसी रै बीरा,
मारो मनडो ना माने धिर,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।



एकर तो बीरा माने बता दो,

पियरे रा रुक,
का जाने का कद होवासी रे,
रुणिचा रा रुक,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।



ओलू सुगना बहन री रे बीरा,

पद गावे पन्नालाल,
अब मत बिलखे बहनडी,
थाने रतनो लेवन आव,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।



अलगी घणी परणाई ओ बीरा रे,

ली नहीं साल संभाल,
जीव अमुजे माने ओलू आवे,
जीव अमुजे माने ओलू आवे,
अठे पड रियो क़ाल पर काल,
ओ बीरा मारा रामदेव रे,
बाई ने एईकर लेवन आव,
अलगो बाई रो सासरो रे,
ओ बीरा रे माता मिलन रो चाव।।

गायक – श्याम पालीवाल जी & अस्मिता पटेल।
प्रेषक – Ravindra Vaishanav
7062852454


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें