अगर दिल किसी का दुखाया ना होता भजन लिरिक्स

अगर दिल किसी का,
दुखाया ना होता,
अगर दिल किसी का,
दुखाया ना होता,
तो सदमों का तीर दिल पे,
ये खाया ना होता,
अगर दिल किसी का।।

तर्ज – अगर दिल किसी से।



तेरी जिंदगी में,

ना होता अँधेरा,
जो दिया दूसरों का,
बुझाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



ना होता ज़माने में,

कभी घर से बेघर,
जो घर दूसरों का,
जलाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर तू हसता,

दुसरो के दुःख पर,
तो हरी ने तुझे यूँ,
रुलाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर प्यार तू प्रेम,

करता सभी से,
तो जग में रे कोई,
पराया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता।।



अगर दिल किसी का,

दुखाया ना होता,
अगर दील किसी का,
दुखाया ना होता,
सदमों का तीर दिल पे,
ये खाया ना होता,
अगर दिल किसी का।।


पिछला भजनदारुडिया ने अलगो बाल रे राजस्थानी लोक गीत
अगला भजनश्याम तुमसे है मोहब्बत तुम ही मेरी जिंदगी भजन लिरिक्स

4 टिप्पणी

    • धन्यवाद, कृपया गूगल प्ले स्टोर से भजन डायरी डाउनलोड करें और बिना इंटरनेट के भी सारे भजन सीधे अपने मोबाइल में देखे।

    • धन्यवाद, कृपया गूगल प्ले स्टोर से भजन डायरी डाउनलोड करें और बिना इंटरनेट के भी सारे भजन सीधे अपने मोबाइल में देखे।

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें