ऐ मेरे सतगुरू दाता कर दो मैहर

ऐ मेरे सतगुरू दाता कर दो मैहर

ऐ मेरे सतगुरू,
दाता कर दो मैहर,
तेरी महिमा को,
सुन सुन के आया मै दर,
ऐ मेरें सतगुरू,
दाता कर दो मैहर।।

तर्ज – मै तेरे इश्क में।



शोक इतना है कि तूझसे दूर हूँ,

आ सकूँ न कि मै मजबूर हूँ,
क्या करूँ,हे प्रभू,
कुछ न आए नजर,
ऐ मेरें सतगुरू,
दाता कर दो मैहर।।



चला जाऊँ न तुमसे मिले बिन,

जिन्दगी के बचे दो चार दिन,
मै जिऊँ,कि मरूँ,
है न पल की खबर,
ऐ मेरें सतगुरू,
दाता कर दो मैहर।।



तेरी सेवा करूँ जिन्दगी भर,

मिले मुझको तेरी बँदगी ग़र,
ऐ मेरे, सतगुरू,
कर दया की नजर,
ऐ मेरें सतगुरू,
दाता कर दो मैहर।।



ऐ मेरे सतगुरू,

दाता कर दो मैहर,
तेरी महिमा को,
सुन सुन के आया मै दर,
ऐ मेरें सतगुरू,
दाता कर दो मैहर।।

– भजन लेखक एवं प्रेषक –
श्री शिवनारायण जी वर्मा,
मोबा.न.8818932923

वीडियो अभी उपलब्ध नहीं।


 

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें