मनवा रे अब मान ले कहना भजन लिरिक्स

मनवा रे अब मान ले कहना भजन लिरिक्स

मनवा रे अब मान ले कहना,
दिन और बचे न,
काहे न भजन करे हो।।

तर्ज – चँदा रे मेरे भइया से।



ये जीवन पानी का रैला,

ये तन है माटी का ढैला,
चार दिनो का है ये मैला,
पल का नही है ठिकाना,
काहे न भजन करे,
मनवा रै अब मान ले कहना,
दिन और बचे न,
काहे न भजन करे हो।।



नाम हरि का मन तू भजले,

गुरूवाणी पे अमल तू करले,
घर ये किराए का है पगले,
इसमे सदा नही रहना,
काहे न भजन करे,
मनवा रै अब मान ले कहना,
दिन और बचे न,
काहे न भजन करे हो।।



गूरु चरणो मे ध्यान लगालै,

तेरे अँग सँग है नँगली वाले,
आज तू अपना भाग्य जगाले,
सोते ही न रहना,
काहे न भजन करे,
मनवा रै अब मान ले कहना,
दिन और बचे न,
काहे न भजन करे हो।।



मनवा रे अब मान ले कहना,

दिन और बचे न,
काहे न भजन करे हो।।

– भजन लेखक एवं प्रेषक –
शिवनारायण वर्मा,
मोबा.न.8818932923

वीडियो अभी उपलब्ध नहीं।


 

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें